Sunday, February 5, 2023
Home Blog Page 6

जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लक्की

0
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी

मित्रो वैसे तो अभी होली को आने में लगभग 1 माह है। हर्षोल्लास के त्यौहार होली में रंगों का विशेष महत्व है। होली का त्यौहार एक ऐसा त्यौहार है। जहा बिना रंगों के होली का रंग फीका-फीका सा लगता है। पहले के टाइम में लोग एक-दूसरे को रंग लगाये जाते थे। लेकिन समय में परिवर्तन हुआ और उसके अनुरूप ही इसमें भी परिवर्तन हुआ और रंगों की जगह गुलाल ने ले ली। रंगों से गुलाल ज्यादा बेहतर है। क्योंकि ये न तो आपके कपड़े खराब करता है और न ही आपकी त्वचा को विशेष नुकसान पहुंचाता है।

वैसे तो होली के सभी रंगों में प्‍यार और सौहार्द की मिठास घुली रहती है। चूँकि फाल्गुन मास के अंत में गौर पूर्णिमा के दिन होलिका दहन के रूप में मनाया जाता है। और ठीक उसके अगले दिन रंगों का त्योहार होली (धुरेंडी) को  धूमधाम से मनाया जाता है। चूँकि होली का त्योहार ज्योतिष की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण माना जाता है। जहा ग्रहों के प्रभाव से हर राशि का अपना एक लकी कलर होता है।

यदि आप अपनी राशि के अगर आप राशि के अनुसार अपने लकी कलर के कपड़े पहनकर रंग खेलेंगे। तो आपके जीवन में से सम्बंधित ग्रह दोष दूर होंगे और  साथ ही सुख, शांति, आनंद, खुशी, श्री और सौभाग्य का प्रवेश निश्चित ही होता है। लेकिन आज हम आपको ज्‍योतिष के आधार पर बता रहे हैं कि आपके राशि के अनुसार होली पर आपके लिए कौन से रंग की ड्रेस आपके लिए लकी साबित हो  सकती है।

मेष राशि?

मित्रो अगर आपका राशि स्‍वामी मंगल होने के कारण आपको होली पर लाल रंग का प्रयोग करना चाहिए और लाल रंग के कपड़े पहनकर होली खेलनी चाहिए। यह लाल रंग प्रेम और सच्‍चाई का प्रतीक माना जाता है। लाल रंग के साथ अपनों के बीच स्‍नेह भी बढ़ेगा और आपके घर में भी खुशहाली आएगी। आप अपने भतीजे एंव भतीजियों को लाल गुलाल लगाकर होली खेलें। हनुमान जी को 11 गुलाब फूल चढ़ायें एंव उसमें से फूल लेकर लाल कपड़े में बांधकर तिजोरी में रख दें। ऐसा करने से पूरे वर्ष मां लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी।
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी

बृषभ राशि?

मित्रो वृषभ राशि का स्‍वामी शुक्र होता है। और सफेद, हरा, नीला रंग को शुक्र से संबंधित माना जाता है। इसलिए अगर आप होली के दिन सफेद रंग के कपड़े पहनकर बेंगनी और नारंगी रंग से होली खेलना आपके लिए शुभ होगा। वही ससुराल पक्ष के लोगों के साथ चमकीले गुलाल से होली खेलें।ऐसे करने से आपके सम्बन्धों में मधुरता बढ़ेगी तथा साथ ही होली के दिन शिव जी पर लाल गुलाब का लेपन करने से आने वाली समस्याओं का शमन होगा और मनोकामना पूर्ण होगी।

मिथुन राशि?

मिथुन राशि का स्‍वामी बुध होने के कारण आपके लिए हरा, नीला और सफ़ेद रंग को शुभ माना जाता है। इसलिए होली के दिन हरे रंग के कपड़े पहनकर होली खेलें और अपने मित्रो के साथ हरा रंग या हरे रंग का गुलाल लगाकर मस्ती करें। होली का हरा रंग न सिर्फ आपके रिश्‍तों में मिठास घोल देगा साथ ही समाज में आपके मान को भी बढ़ाएगा। अगर आप होली के दिन गणेश जी पर हरा गुलाल चढ़ाएं और गणेश स्त्रोत का पाठ सच्चे मन से करें।

कर्क राशि?

कर्क राशि जल तत्‍व को प्रतिनिधित्‍व करती है। और इस कर्क राशि के स्‍वामी चंद्र हैं। इस राशि के लोगों को सफेद रंग के कपड़े पहनकर होली खेलनी चाहिए। ऐसा करने से आपको मानसिक सुकून पा सकते है। आज के दिन अपनी मां को गुलाल लगाकर अशीर्वाद ले सकते है। ऐसे करने से आप हर बाॅधा को आसानी से पार कर आगे बढ़ पाओगे। साथ ही आपको अपनों का प्‍यार भी खूब मिलेगा। होली खेलने के लिए आपको नीले रंग का प्रयोग करना चाहिए। होली के दिन शिव-पार्वती को गुलाल चढ़ायें एंव मिश्री का भोग लगाकर विधिवत पूजन करें।

जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी

सिंह राशि?

सिंह राशि का स्‍वामी सूर्य को माना जाता है और यह अग्नि तत्‍व की राशि कहलाती है। इस राशि के लोग स्‍वभाव से काफी खुले दिल के और ऊर्जावान होते हैं। इनके लिए लाल, गुलाबी, सफ़ेद, पीले रंग के कपड़ो का इस्तेमाल करना चाहिए और इन लोगो को नारंगी रंग से होली खेलनी चाहिए। आप अपने पिता को गुलाल का टीका लगाकर उनसे अशीर्वाद प्राप्त कर सकते है। होली के दिन प्रातः काल जल में गुलाल एंव गुलाब फूल चढ़ाकर सूर्य देव को अर्पित कर सकते है। साथ ही आपको इस दिन शनि देव की स्तुति करना चाहियें।

कन्या राशि?

कन्या राशि के स्‍वामी बुध को माना गया हैं। और यह पृथ्‍वी तत्‍व का प्रतिनिधित्‍व करती है। आप इसमें हरा, नीला,चमकीला और भूरा रंग होली खेलने के कपड़ों में प्रयोग करना श्रेष्‍ठ होगा। वहीं लाल और पीले रंग से आपको होली खेलनी चाहिए। ऐसा करने से आपको धन और यश की प्राप्ति होती है। वही इस राशि के लोगो शको नि देव की स्तुति करना चाहियें एंव उन्हे नीला गुलाल व काले तिल चढ़ायें। अपनी बहन एंव बुआ को भी नीला गुलाल अवश्य लगायें।

जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी

तुला राशि?

तुला राशि का स्‍वामी शुक्र को माना गया है। और यह राशि वायु तत्‍व को प्रदर्शित करती है। इस राशि के लोगों को चटख रंगों से बचना चाहियें और चटख रंगों की बजाए हल्‍के रंग के कपड़े प‍हनकर होली खेलनी चाहिए। इन रंगों में सफेद, गुलाबी और आसमानी सही रहेंगे। तुला राशि के जातकों को नीले और केसरिया रंग से होली खेलना शुभ होगा। होली के दिन आप अपनी पत्नी को ब्राइट कलर का गुलाल लगाना चाहियें। ऐसे करने से आपके आपसी सम्बन्ध में प्रेम बना रहेगा। साथ ही इस दिन मां लक्ष्मी स्त्रोत का पाठ अवश्य करायें।

वृश्चिक राशि?

वृश्चिक राशि के लोगों के स्‍वामी मंगल को माना जाते हैं। मंगल के स्‍वामित्‍व वाले जातकों के लिए लाल, नारंगी, केसरिया और पीले रंग शुभ माने जाते हैं। आप इनमें से कोई भी रंग चुन सकते हैं। अपने कपड़ों के लिए और किसी एक रंग से आप होली भी खेल सकते हैं। ऐसा करने से आपके राशि स्‍वामी प्रसन्‍न होंगे और आपकी ग्रह दशा दूर होगी। आप अपने भाईयों को लाल गुलाल अवश्य लगाना चाहियें जिससे आपसी सौहादर्य में वृद्धि होगी। हनुमान जी के दाहिने बाजू पर लाल गुलाल लगायें। गहरा प्रेम उमड़ेगा।

जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी
जाने होली पर किस रंग की ड्रेस आपके लिए होगी लकी

धनु राशि?

धनु राशि के स्‍वामी गुरु हैं। और इन्‍हें अग्नि तत्‍व को देवता भी कहा जाता है। इस कारण इस राशि के जातकों के लिए लाल और पीला रंग सर्वश्रेष्‍ठ माना जाता है। आप इन्‍हीं 2 रंगों के कपड़े पहनकर होली खेल सकते हैं। पीला रंग देवताओं को प्रिय होने के कारण होली पर उनका भी आशीर्वाद प्राप्‍त होगा। अपनों के साथ संबंधों को मजबूत बनाने के लिए आप इन्‍हीं 2 रंगों से होली भी खेल सकते हैं।आप अपनी सन्तान के साथ भी पीले रंग के गुलाल के साथ होली खेलने से गिले-शिकवे दूर कर सकते है। और आप लोगो में एक-दूसरे के प्रति गहरा प्रेम उमड़ेगा। आपको केले पर कच्चा दूध चढ़ाने से धन-धान्य में वृद्धि होगी।

मकर राशि?

इस राशि के स्‍वामी को शनि कहते हैं। और यह पृथ्‍वी तत्‍व की राशि है। वैसे तो मकर राशि के जातकों को होली खेलना ज्‍यादा पसंद नहीं आता। लेकिन फिर भी इनके होली खेलने से कई तरह के दोष दूर होते हैं। इस राशि के लोगो को होली पर नीले या फिर काले रंग के कपड़े पहनकर होली खेलनी चाहिए। इन रंगों के प्रभाव से आपको अपने कर्मों में शुभ परिणाम प्राप्‍त होते हैं। आपकी राशि के लिए लाल, भूरा और बेंगनी रंग भी उत्‍तम है। और आपकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी।

कुम्भ राशि?

कुम्भ राशि के स्‍वामी भी शनि हैं। और यह राशि वायु तत्‍व को प्रतिनिधित्‍व करती है। आप पर शनि की कृपा बनाए रखने के लिए आपको भी बैंगनी, काले और नीले, हरा रंग के कपड़े पहनकर होली खेलनी चाहिए। इन रंगों का शुभ प्रभाव जीवन में आपको सफलता दिलाता है। होली के अवसर पर आप लोग वृद्ध व्यक्तियों के साथ नीले व गुलाबी रंग के साथ होली खेलें जिससे शनि देव की कृपा आप पर हमेशा बनी रहेगी। कालभैरव का पूजन करने से आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। आपको हल्‍के रंगों की बजाए गाढ़े रंग से होली खेलना ज्यादा फायदेमंद है।

मीन राशि?

मीन राशि का स्‍वामी गुरु को माना जाता हैं ऐसे में आपको पीले रंग का प्रयोग करना बहुत लाभकारी है। आप इस बार होली पर पीले रंग के वस्त्र पहनकर रंग खेलें। आप इस होली अपने गुरू को पीले रंग गुलाल जरूर लगायें ऐसा करने से आप पर गुरू की कृपा दिन-रात बनी रहेगी और आप उन्नति करेंगे। होलिका दहन के समय गोबर के कण्डे अग्नि में डालने से बाधायें दूर होगी। होली की शुरुआत आप भगवान शिव पर पीला रंग चढ़ाकर करें तो यह आपके जीवन को खुशियों से भर देगा । और आप हरे और गुलाबी रंग का भी प्रयोग कर सकते हैं।

UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू

0
UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू
UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू

UPPCL JE Recruitment 2021 Apply Online: उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) ने ऊर्जा विभाग में जूनियर ट्रेनी इंजीनियर (सिविल) भर्ती 2021 के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) ने जेई भर्ती 2021 के लिए आवेदन प्रक्रिया 3 फरवरी 2021 से शुरू गयी है। और आवेदन उम्मीदवारों को ध्यान देना चाहिए कि यूपीपीसीएल द्वारा जूनियर इंजीनियर (सिविल) भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 23 फरवरी 2021 निर्धारित की गयी है।

Table of Contents

UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू
UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू

आवेदन के इच्छुक उम्मीदवार उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) की ऑफिशियल वेबसाइट uppcl.org पर उपलब्ध कराये गये। ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं। जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) ने जूनियर ट्रेनी इंजीनियर (सिविल) भर्ती में कुल 21 पदों पर यह भर्ती की जाएगी। यूपीपीसीएल भर्ती 2021 पद विवरण, आवेदन शुल्क और सैलरी समेत पूरी जानकारी इसी पेज पर नीचे दी गई है।

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) जेई भर्ती 2021?

उम्मीदवार यूपीपीसीएल जेई भर्ती 2021 (UPPCL JE Bharti 2021) के लिए ऑनलाइन आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण बिंदु, पूर्वापेक्षाएँ, लिंक, और चरण भी देख सकते हैं। उम्मीदवार 3 फरवरी 2021 को आधिकारिक रूप से जारी होने के बाद आवेदन पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन करना शुरू कर सकते हैं। यूपीपीसीएल जेई भर्ती 2021 के लिए केवल ऑनलाइन मोड के माध्यम से फॉर्म प्रस्तुत किया गया है। चूँकि ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 23 फरवरी 2021 है।

आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को अंतिम तिथि से पहले ऑनलाइन फॉर्म भरने की सलाह दी जाती है। इच्छुक और योग्य उम्मीदवार यूपीपीसीएल जेई ऑनलाइन फॉर्म के लिए अपनी पात्रता की जांच कर सकते हैं और दिए गए विवरण का उपयोग करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

यूपीपीसीएल जेई भर्ती 2021 रिक्तियों का विवरण?

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) में जूनियर ट्रेनी इंजीनियर भर्ती 2021 के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार के लिए रिक्तियों का विवरण निम्न प्रकार से है। जिसमे यूआर: 10 पोस्ट, ईडब्ल्यूएस: 2 पद, ओबीसी: 5 पद, एससी: 4 पद जिन उम्मीदवारों ने सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा पूरा कर लिया है, वे भी इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

पदों की कुल संख्या?

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) में जूनियर ट्रेनी इंजीनियर भर्ती 2021 के लिए पदों की कुल संख्या 21 है।

जेई भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रारम्भ होने तथा समाप्त होने की अंतिम तिथि?

महत्वपूर्ण तिथियां
आवेदन करने की प्रारंभ तिथि (Start Date)03 फरवरी 2021
आवेदन करने की अंतिम तिथि (End Date)23 फरवरी 2021

शैक्षणिक योग्यता एवं पात्रता  (Educational Qualifications)?

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) में जूनियर ट्रेनी इंजीनियर (सिविल) भर्ती 2021 के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार के पास सिविल से इंजीनियरिंग की डिग्री एंड डिप्लोमा होना चाहिए आवश्यक है। या फिर उम्मीदवार अगर इसके समकक्ष भी है तो भी ये मान्य रहेगा।

उम्मीदवार की आयु सीमा (Age Limit)?

इस UPPCL JE Recruitment 2021 के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार की आयु न्यूनतम 18 वर्ष और अधिकतम 40 वर्ष (आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए आयु में छूट) तक होना चाहिए। अगर आप की आयु सीमा इससे कम या अधिक है। तो आप इस भर्ती के लिए योग्य नहीं है।

यूपीपीसीएल जेई ऑनलाइन फॉर्म 2021 के लिए आवश्यक शर्तें?

आवेदन करने वाले उम्मदवारो को 10 वीं कक्षा की मार्कशीट 12 वीं कक्षा की मार्कशीट JPG फॉर्मेट में रंगीन पासपोर्ट साइज फोटो की स्कैन कॉपी जेपीजी प्रारूप में हस्ताक्षर की एक स्कैन की गई कॉपी फोटो आईडी प्रमाण होना आवश्यक है।

UPPCL JE ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 2021?

मित्रो उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड भर्ती 2021 के लिए आपको ऑनलाइन आवेदन करना होगा। नीचे दी गयी ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर समस्त जानकारी भरें तथा उपलब्ध माध्यमो से फीस भरे | फीस का भुगतान क्रेडिट कार्ड / डेबिट कार्ड / नेट बैंकिंग द्वारा किया जा सकता है।

आवेदन केवल ऑनलाइन मोड के माध्यम से भरे जाने चाहिए। नोटिफिकेशन में दी गयी तारीख के भीतर ही केवल आवेदन ऑनलाइन भरे जाएंगे। किसी भी तरह ऑफ़लाइन आवेदन को अस्वीकार कर दिया जाएगा। उम्मीदवारों को ऑनलाइन आवेदन करते समय सभी आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन की हुई कॉपी अपलोड करनी होगी | उम्मीदवारों को प्रत्येक जानकारी को ध्यान से दर्ज करना होगा। आवेदन में किसी भी गलती को सुधार के लिए दिए गए समय के भीतर ठीक किया जाना चाहिए। उम्मीदवारों को भी सुधार शुल्क का भुगतान करना होगा।

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड जेई भर्ती 2021 के लिए ऑनलाइन फॉर्म कैसे भरें?

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड ऑनलाइन पोर्टल पर जाएं। Uttar Pradesh Power Corporation Limited पर दिए गए आवेदन लिंक का चयन करें। सभी आवश्यक जानकारी ध्यानपूर्वक प्रदान करके तत्पश्चात रजिस्टर करें। सही जानकारी के साथ आवेदन भरें। निर्धारित प्रारूप में आवश्यक दस्तावेज की स्कैन्ड कॉपी को अपलोड करें। आवेदन शुल्क का भुगतान करें। अंत में, आवेदन Submit करें। आवेदन पत्र का प्रिंटआउट लें और भविष्य के संदर्भों के लिए उसे रख लें।

UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू
UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू

जेई भर्ती 2021 से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारिया तथा एडमिट कार्ड?

आवेदन का एकमात्र तरीका ऑनलाइन माध्यम है। आवेदन पत्र की मुद्रित / हार्ड प्रतियों का मनोरंजन नहीं किया जाएगा। ऑनलाइन परीक्षा में सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकार के बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे। यूपीपीसीएल जेई भर्ती 2021 के लिए आवेदन करने से पहले उम्मीदवारों को पात्रता मानदंड की पूरी तरह से जांच करनी चाहिए।

ऑनलाइन आवेदन की शुरुआत और अंतिम तिथि का ध्यान रखना चाहिए। ऑनलाइन टेस्ट के लिए कॉल लेटर डाउनलोड करने के लिए उम्मीदवारों को अपडेट रहना होगा। यूपीपीसीएल जेई एडमिट कार्ड 2021 UPPCL JE Admit Card 2021 परीक्षा के लिए मार्च 2021 में जारी किया जाएगा। एडमिट कार्ड डाउनलोड लिंक के लिए अपडेट रहें।

यूपीपीसीएल जेई ऑनलाइन आवेदन फॉर्म 2021 अमान्य है यदि तो क्या करे?

आवेदन करने वाले उम्मीदवार को चाहियें कि वे आवेदन पत्र में गलत जानकारी प्रदान करना भ्रामक जानकारी प्रदान करना एक उम्मीदवार द्वारा एक से अधिक आवेदन फॉर्म जमा किए जाते हैं। अंतिम जमा करने के लिए केवल एक आवेदन पर विचार किया जाएगा। आवेदन शुल्क जमा नहीं करना पोस्ट द्वारा यूपीपीसीएल जेई आवेदन प्रस्तुत करना स्वीकार्य नहीं होगा।

यूपीपीसीएल जेई भर्ती परिणाम 2021?

UPPCL JE रिजल्ट परीक्षा आयोजित होने के बाद जारी किया जाएगा। जैसा कि परीक्षा की तारीख मार्च में अस्थायी रूप से होती है, जिसके परिणाम जारी होने की अपेक्षित तिथि अप्रैल 2021 में है। उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) जेई भर्ती 2021 के बारे में नवीनतम सूचनाओं के लिए, उम्मीदवारों को वेबसाइट ,SARKARIRESULT.COM या इसकी ऑफिसियल वेबसाइट से हमेशा जुड़े रहे। ई-मेल / एसएमएस के माध्यम से उम्मीदवारों को बहुत सारी सूचनाएं भेजी जाएंगी। सूचनाओं के लिए सचेत रहें।

यूपीपीसीएल जेई भर्ती वेतनमान?

मित्रो  उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड जेई भर्ती 2021 में सैलरी 44,900/- रूपये प्रतिमाह के हिसाब से मिलेगी! नोटिफिकेशन में सैलरी की जानकारी विस्तारपूर्वक दी गई है। यहाँ सभी पद के लिए अलग-अलग वेतनमान है।

यूपीपीसीएल जेई भर्ती में नियुक्ति का स्थान?

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन लिमिटेड जेई भर्ती 2021 में जिसकी भी नई नियुक्ति होगी। उनको उत्तर प्रदेश में कही भी नियुक्ति दी जा सकती है।

UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू
UPPCL JE Application 2021 उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन में जेई के 21 पदों पर आवेदन आज से शुरू

UPPCL JE Notification 2021

आवश्यक जानकारी –   UPPCL JE Recruitment 2021 आवेदन से जुड़ी सभी जानकारी के लिए कृपया ऑफिसियल नोटिस देखे ! यह जानकारी अपने दोस्तों को भी भेजे और नयी भर्ती के लिए हमारी वेबसाइट पर हमेशा बने रहे !

आप सभी को सूचित किया जाता हैं कि इस सरकारी भर्ती के लिए आवेदन करने से पहले आवश्यक जानकारी, शैक्षिक योग्यता, आयु सीमा भर्ती प्रक्रिया आवेदन की फीस और ऑफिसियल नोटिफिकेशन पड़ ले तत्पश्चात फिर आवेदन करे क्योकि हम जानते हे कि एक छोटी सी गलती बहुत बड़ी परेशानी बन जाती है |

डाउनलोड ऑफिसियल नोटिफिकेशन  – क्लिक हियर

ऑफिसियल वेबसाइट – क्लिक हियर 

अप्लाई ऑनलाइन – क्लिक हियर 

यूपीपीसीएल हेल्पलाइन नंबर और ईमेल आईडी?

उत्तर प्रदेश पावर कारपोरेशन ने जूनियर इंजीनियर पदों के लिए आवेदन के समय उम्मीदवारों की सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर  जारी किया है। उम्मीदवार ऑनलाइन में किसी भी प्रकार की तकनीकी समस्या के लिए फोन नंबर 022-61306204 पर कॉल कर सकते हैं या आप दिए गए ईमेल आईडी [email protected] पर मेल कर सकते हैं।

आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे

0
आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे
आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे

बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका के रिक्त करीब 53 हजार पदों पर भर्ती का रास्ता साफ हो गया है। मानदेय के आधार पर होने वाली इन पदों पर भर्ती के लिए नये सिरे से चयन प्रक्रिया का निर्धारण किया गया है। उत्तर प्रदेश शासन ने शुक्रवार को शासनादेश जारी कर दिया है। पिछले कई महीनों से चयन प्रक्रिया का निर्धारण न होने की वजह से आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका के रिक्त करीब 53 हजार पदों पर भर्ती  की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पा रही थी।

आईसीडीएस (ICDS UP Anganwadi Vacancy) प्रक्रिया 10 साल बाद होने जा रही है। यह भर्ती उत्तर प्रदेश के निवासी पुरुष और महिला वर्ग के उम्मीदवारों के लिए नौकरी पाने का शानदार अवसर हैं। लेकिन अब जल्द ही आईसीडीएस निदेशालय द्वारा इन तीनों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। जानकारी के लिए आपको बता दें कि पिछले साल से लेकर अब तक विभाग में करीब 30 हजार आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 62 साल की आयू पूरी करने के पश्चात उन्हें सेवानिवृत्त कर दिया गया है। इसके अलावा विभाग में करीब 23-25 हजार पद पहले से ही खाली हो चुके थे।

आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे
आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे

लेकिन नये सिरे से चयन प्रक्रिया का प्रारूप तय करने की कवायद के चलते इन पदों पर भर्ती नहीं हो पा रही थी। हालांकि शासन स्तर से चयन प्रक्रिया का प्रारूप करीब चार महीने पहले ही तैयार कर लिया गया था, लेकिन उच्च स्तर पर निर्णय न होने की वजह से मामला लटका हुआ था। बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार विभाग की अपर मुख्य सचिव एस. राधा चौहान की ओर से नये चयन प्रक्रिया के संबंध में जारी शासनादेश के मुताबिक सभी जिलों में डीएम की देखरेख में गठित चयन समिति द्वारा तीनों पदों पर भर्ती की जाएगी।

यह तीन पद आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका के है। निदेशक स्थानीय निकाय की ओर से जल्द ही जिलेवार रिक्तियों का ब्यौरा डीएम को उपलब्ध कराने के तत्काल निर्देश दिए गए हैं। ताकि इन तीनों रिक्त पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जा सके। चयन समिति की संस्तुति के बाद डीएम द्वारा अनुमोदित करने के बाद भर्ती प्रक्रिया पूरी मानी जाएगी। जिसके बाद उत्तर प्रदेश में 53000 पदों को भरा जा सके।

आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे
आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे

उत्तर प्रदेश आंगनबाड़ी भर्ती 2021-2022 ?

उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी आंगनबाड़ी केंद्रों, प्री-नर्सरी और नर्सरी स्कूलों में तब्दील करना शुरू कर दिया है।

उत्तर प्रदेश सरकार (UP Govt) ने आंगनबाड़ी भर्ती (Anganwadi Bharti) के लिए जल्द ही विज्ञापन अधिसूचना जारी करेगी। योग्य इच्छुक उम्मीदवार उत्तर प्रदेश आंगनबाड़ी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आंगनबाड़ी उत्तर प्रदेश भर्ती के लिए ऑनलाइन (UP Anganwadi Online form) आवेदन कर सकते है।

आंगनवाड़ी वेबसाइट उत्तर प्रदेशClick Here

अभ्यर्थियों की आय सीमा बढ़ी?

उत्तर प्रदेश शासन की ओर जारी की गयी नई चयन प्रक्रिया मे अभ्यर्थियों के लिए आय सीमा का नये सिरे से निर्धारण किया गया है। समाज कल्याण विभाग द्वारा निर्धारित आय सीमा को मानक मानते हुए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की भर्ती में भीं लागू करने का फैसला किया गया है।

अब ग्रामीण क्षेत्र के अभ्यर्थियों के लिए सालाना आय सीमा 46 हज़ार 80 रुपये निर्धारित किया गया है, जो पहले मात्र 18000 रुपए था। इसी तरह शहरी क्षेत्र के अभ्यर्थियों के लिए भी आय सीमा को 20000 से बढ़ाकर 56 हजार 460 रुपये सालाना कर दिया गया है। इस नई भर्ती प्रक्रिया में शैक्षिक व अन्य अर्हता में शासन की तरफ से कोई बदलाव नहीं किया गया है।

आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे
आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे

चयन समिति में शामिल होंगी महिला अधिकारी?

डीएम की देखरेख में गठित होने वाली चयन समिति में जिले में तैनात समूह ‘क’ व ‘ख’ संवर्ग की महिला अधिकारी भी सदस्य रहेंगी। पहले की व्यवस्था में महिला अधिकारी सदस्य नहीं होती थी। डीएम द्वारा नामित सीडीओ या एडीएम समिति के अध्यक्ष होंगे, जबकि जिला कार्यक्रम अधिकारी (डीपीओ) सदस्य सचिव होंगे।

आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे
आंगनबाड़ी भर्ती 2021 उत्तर प्रदेश जल्द हो सकती है आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं की भर्ती विज्ञापन शीघ्र जारी किए जाएंगे

वही इनके अलावा अनुसूचित जाति व जनजाति और पिछड़ी जाति का एक-एक जिला स्तरीय अधिकारी व संबंधित परियोजना का बाल विकास अधिकारी (सीडीपीओ) सदस्य होगा। चयन समिति की बैठक में अनुसूचित जाति, जनजाति व पिछड़ी जाति के सदस्य अधिकारियों की उपस्थिति अनिवार्य होगी।

यूपी आंगनवाड़ी नौकरियां 2021-2022 के संबंध में सभी आवश्यक चीजें जैसे शैक्षणिक योग्यता, आयु सीमा, वेतनमान, चयन प्रक्रिया, महत्वपूर्ण तिथियां और अन्य नियम नीचे दिए गए है।

1- आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं के पदों पर भर्तियां।

२- नियुक्ति मेरिट के आधार पर होगी।

3- इन पदों के लिए न्यूनतम शैक्षिक अर्हता हाईस्कूल है।

4- सरकार इन भर्तियों में आरक्षण भी लागू किया गया है।

5- यह भर्तियां करीब 10 साल बाद होने जा रही हैं।

6- DM की अध्यक्षता में समिति आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं का चयन करेंगी।

7- जिला कार्यक्रम अधिकारी इनके नियुक्ति सदस्य सचिव होंगे।

8- इस बार महिला अधिकारी सदस्य भी होंगी।

उत्तर प्रदेश के जिलों के नाम जिनमें आंगनबाड़ी भर्ती होनी हैं

1.आगरा39.कन्नौज
2.अम्बेडकर नगर40.कासगंज
3.आजमगढ़41.कुशीनगर
4.बलिया42.महाराजगंज
5.बाराबंकी43.मथुरा
6.बिजनौर44.मिर्जापुर
7.चंदौली45.पीलीभीत
8.एटा46.रामपुर
9.फर्रुखाबाद47.संत कबीर नगर
10.गौतम बुद्ध नगर48.शामली
11.गोंडा49.सीतापुर
12.हापुड़50.उन्नाव
13.जालौन51.इलाहाबाद
14.अमरोहा52.औरैया
15.कानपुर नगर53.बहराइच
16.खीरी54.बांदा
17.लखनऊ55.बस्ती
18.मैनपुरी56.बुलंदशहर
19.मेरठ57.देवरिया
20.मुजफ्फरनगर58.फैजाबाद
21.रायबरेली59.फिरोजाबाद
22.सम्भल (भीम नगर)60.गाज़ीपुर
23.शाहजहाँपुर61.हमीरपुर
24.सिद्धार्थ नगर62.हाथरस (महामाया नगर)
25.सुल्तानपुर63.झाँसी
26.अलीगढ़64.कानपुर देहात
27.अमेठी65.कौशाम्बी
28.बागपत66.ललितपुर
29.बलरामपुर67.महोबा
30.बरेली68.मऊ
31.बदायूं69.मुरादाबाद
32.चित्रकूट70.प्रतापगढ़
33.इटावा71.सहारनपुर
34.फतेहपुर72.संत रविदास नगर
35.गाजियाबाद73.श्रावस्ती
36.गोरखपुर74.सोनभद्र
37.हरदोई75.वाराणसी
38.जौनपुर

महत्वपूर्ण लिंक – ICDS UP आंगनबाड़ी भर्ती 2021-2022 

UP ICDS Anganwadi Bharti 2021 Update (नयी चयन प्रक्रिया)Click Here
News Paper CuttingFile 1File 2File 3
Official NotificationClick Here (Update Soon)
Application Form | Apply Online LinkLink 1Link 2 (Update Soon)
Official WebsiteClick Here

 

महत्वपूर्ण दिशा निर्देश: उत्तर प्रदेश आंगनवाड़ी भर्ती-2021-2022 जॉब्स (anganwadi supervisor vacancy in up) अप्लाई करने से पहले जरूरी है कि फुल नोटिफिकेशन / विज्ञापन पढ़ लें।

निवेदन – आप सभी से विनम्र निवेदन है कि इस जॉब लिंक Anganwadi Bharti 2021-2022  Uttar Pradesh को अपने दोस्तों को वाट्स एप गुप एवं फेसबुक या अन्य सोशल नेटवर्क पर अधिक से अधिक शेयर करें और उनको भी अच्छा रोजगार पाने में उनकी मदद करें।

यूपी आंगनवाड़ी से संबंधित पूछे जाने वाले प्रश्न?

प्रश्न 1 : आंगनवाड़ी की भर्ती कब होगी?

उत्तर : जल्द भर्ती होगी।

प्रश्न 2 : आंगनवाड़ी का वेतन क्या है?

उत्तर : वेतन वृद्धि के बाद, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को वेतन के रूप में अब प्रति माह 4000-8000 रुपये मिलेंगे, एक सहायक कर्मचारी को 2000-4000 रुपये और मिनी आंगनवाड़ी सहायक को 3000-6000 रुपये प्रति माह मिलेंगे।

प्रश्न 3 : आंगनवाड़ी भर्ती के लिए आवेदन कैसे करें?

उत्तर : उम्मीदवार सबसे पहले ICDS या WCD आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और हेल्पर रिक्ति की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। इसके बाद लिंक “आधिकारिक विज्ञापन” पर क्लिक करें। इसे डाउनलोड करें और आंगनवाड़ी के लिए ऑनलाइन आवेदन करने से पहले इसे ध्यान से पढ़ें। अब आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ और ऑनलाइन आवेदन करें।

प्रश्न 4 : क्या आंगनवाड़ी एक सरकारी नौकरी है?

उत्तर : आंगनवाड़ी भारत में एक प्रकार की ग्रामीण माँ और बाल देखभाल केंद्र है। वे भारत सरकार द्वारा 1975 में एकीकृत बाल विकास सेवा कार्यक्रम के तहत बाल भूख और कुपोषण से निपटने के लिए शुरू किए गए थे। आंगनवाड़ी का मतलब भारतीय भाषाओं में “आंगन आश्रय” है।

प्रश्न 5 : महिला सुपरवाइजर की भर्ती कब निकलेगी?

उत्तर : उत्तर प्रदेश में जल्द ही आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं की भर्ती होगी।

प्रश्न 6 : आंगनवाड़ी का फॉर्म कब से भरेगा?

उत्तर : Date शीघ्र ही आपको बता दी जाएगी

प्रश्न 7 : आंगनवाड़ी सुपरवाइजर की सैलरी कितनी है?

उत्तर : ₹20,000/- (Per Month)

प्रश्न 8 : आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका के कितने पदों पर भर्ती होगी?

उत्तर : 53 हज़ार पदों पर भर्ती होगी।

अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी

0
अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी
अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी

आपने अक्सर लोगों को यह शिकायत करते हुए सुना होगा कि हमने इतने किलो वेट कम कर लिया है। लेकिन मोटी तोंद है कि कम होने का नाम ही नहीं ले लेती। दरअसल, इस दिक्कत की वजह स्वाभाविक है। क्योंकि पूरे शरीर से कुछ पाउंड्स वजन कम करना एक अलग चीज होती है। और सिर्फ पेट की चर्बी कम करना एकदम अलग बात। इसके कारण दुनिया के जाने माने ऑर्थर बॉब लूथर ने अपने हालिया लेख में विस्तार से प्रस्तुत किए।

ऑर्थर बॉबके अनुसार, बॉडी वेट की तुलना में पेट के फैट का कम गति से घटने का कारण यह होता है कि शरीर के दूसरे हिस्सों में जमा चर्बी को पिघलाना बॉडी मैकेनिज़म के लिए अलग बात होती है। और पेट पर जमा फैट को पिघलाना अलग। अगर आप भी अपने पेट पर चढ़े फैट को घटाने के लिए तमाम नुस्खे अपना चुके हैं। लेकिन कोई खास फायदा नहीं हुआ है। तो आपको आयुर्वेद का रास्ता चुनना चाहिए। यही वह आसान और कारगर तरीका है। जो आपको बढ़ी हुई तोंद से मुक्ति दिला सकता है।

अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी
अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी

मित्रो अगर आप मोटापे से परेशान नहीं है। तो अपने बढ़े हुए पेट से जरूर परेशान होंगे और होना भी चाहिए, क्योंकि बढ़ा हुआ पेट आपको सेहत संबंधी कई परेशानियां भी उत्पन कर देता है और आपके फिगर और आपके साइज को भी बिगाड़ कर रख देता है। पेट की चर्बी देखने में खराब तो लगती ही है। साथ ही साथ ये आपके लिए कष्टदायक भी होता है।

जिसकी वजह से आपके शरीर में स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी उत्पन होने लगती है। उदाहरण के तौर पर अगर बात करे तो आपके पेट की गुहा (Abdominal cavity) में क्रोनिक सूजन का बढ़ना जिससे मधुमेह और हृदय रोग होने का खतरा बहुत अधिक बढ़ जाता है। पेट में वसा मुख्य रूप से, व्यायाम न करने, खराब जीवनशैली, अधिक वसा युक्त और मीठे खाद्य पदार्थों के सेवन से एकत्रित होती है।

साथ ही आनुवंशिकता और कभी कभी उम्र भी इसका मुख्य कारण होता है। इसलिए पेट का फैट कम करना थोड़ा मुश्किल ज़रूर है। लेकिन नामुमकिन नहीं। सही समय पर संतुलित भोजन और व्यायाम पेट की चर्बी कम करने में काफी सहायक होते हैं।

क्योंकि पेट पर चढ़ी चर्बी के मुख्य कारणों में लेजी लाइफस्टाइल, शरीर की जरूरत से ज्यादा सोना या ओवर स्लीपिंग, खान-पान का ध्यान ना रखना और सही न्यूट्रिशन ना लेना जैसे कारण शामिल हैं। इन कारणों के चलते पेट पर फैट जमा हो जाता है, जिसे काफी मशक्कत के बाद भी कम करना एक बड़ा चैलेंज होता है। कई शोध कर्ताओ के शोध और अनुभव के आधार पर बॉब का कहना है कि इस फैट को आयुर्वेदिक तरीके के खान-पान अपनाकर कम किया जा सकता है।

पेट की चर्बी कम करना है तो व्यायाम ज़रूरी है? 

मित्रो जो लोग रोज़ कार्डियो करते हैं वे लगभग 20 प्रतिशत तक पेट की चर्बी कम करने में कामयाब रहते हैं। हृदय तथा रक्त वाहिकाओं संबंधी व्यायाम (cardiovascular exercise) आपके मेटाबोलिज्म को बढ़ाते हैं। और अतिरिक्त कैलोरी को कम करते हैं। इन व्यायाम में जॉगिंग, टहलना, स्विमिंग आदि आते हैं। आप एरोबिक एक्सरसाइज से भी फैट कम कर सकते हैं। इनसे मेटाबोलिज्म बढ़ता है और पतली पेशियाँ बनती हैं।

पेट का मोटापा कम करने के लिए कम कैलोरी युक्त भोजन खाएं और संतृप्त वसा (saturated fat) वाले खाद्य पदार्थों जैसे घी, मक्खन, पनीर आदि से जितना हो सके उतना दूर रहें। जंक फ़ूड जैसे-पिज़्ज़ा, बर्गर, चाउमीन न खाएं और अधिक फाइबर युक्त चीज़ें अपने खाने में शामिल कर सकते है चूँकि यह आपके मेटाबॉलिज़्म को बढ़ाता है।

(और पढ़ें – पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे)

पेट कम करने के लिए जरुरी है संतुलित आहार?

संतुलित आहार मानव जीवन के स्वस्थ्य जीवन की चाभी है। आप अपने आहार में कम कैलोरी वाला भोजन जैसे, फल, सब्ज़ियाँ, साबुत अनाज आदि शामिल करके अपने निचले पेट की चर्बी कम कर सकते हैं। वाटर रिटेंशन कम करने के लिए आपको नमक उचित अनुपात में ही लेना होगा। साथ ही अधिक शर्करा और उच्च वसा वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से भी आपको बचना चाहिए।

अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी
अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी

मित्रो ध्यान देने वाली बात ये है कि अत्यधिक शर्करा या चीनी का उपयोग आपके पेट की चर्बी के बढ़ाने का बहुत बड़ा कारण है। जहा उच्च शर्करा की मात्रा शरीर में इन्सुलिन का स्तर बढ़ा देती है। और फैट कोशिकाओं में ऊर्जा को एकत्रित करता है। वही विटामिन डी से समृद्ध खाद्य पदार्थ जैसे-अंडे और सैमैन जोकि एक प्रकार की मछली से वसा के चयापचय में मदद मिलती है।

मित्रो जहा खीरे और सौंफ़ के बीज आपके पेट में सूजन को कम करते हैं और पाचन में भी सहायता करते हैं। दही और जैतून का तेल कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है। यह एक हार्मोन है। जो वसा को एकत्रित करता है। अपने रात के खाने में काली मिर्च को शामिल करें इससे फैट को जलाने में मदद मिलती है।

मित्रो आपको चाहियें थोड़ी थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाते रहना चाहियें ऐसे करने से आपका मेटाबोलिज्म बढ़ता है और साथ ही इससे आप एक साथ अधिक भोजन खाने से बचाता भी है। जिससे फैट बढ़ता है। आपको चाहियें कि जल्दी जल्दी भोजन का सेवन न करे, भोजन को अच्छी तरह चबाकर ही खाएं। ऐसा करने से ज़रूरत से ज्यादा खाने की आदत कम होगी।

पेट कम करने का तरीका है ग्रीन टी?

पेट की चर्बी कम करने के लिए सबसे अच्छा उपाय ग्रीन टी है। चूँकि ग्रीन टी में कैटेचिन नामक तत्व पाया जाता है। जो शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाता है। कई अध्ययनों के अनुसार, जो लोग रोज़ 2 कप ग्रीन टी पीते हैं वो 16 गुना अधिक तेज़ी से पेट का मोटापा कम कर पाते हैं। जो लोग ग्रीन टी नहीं पीते हैं। उन्हें सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले पीने से यह पेट का फैट तेज़ी से घटाती है।

पेट की चर्बी कम करने का नुस्खा?

अध्ययन के अनुसार, अगर कोई व्यक्ति रोज़ 2 लीटर पानी पीता है। तो ऐसे करने से वज़न घटाने में काफी मदद मिलती है। ऐसा करने से 12 महीने में 2 किलो तक वज़न कम होता है। अपने शरीर का मेटाबोलिज्म बढ़ाने और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए अधिक से अधिक पानी पीना चाहियें। पानी पीने से आपका पेट लम्बे समय के लिए भर जाता है। और अगर आपको अपनी भूख बढ़ाने के लिए भोजन करने के आधे घंटे पहले पानी पियें। इससे आपको स्वाद में मीठे पेय पदार्थों को पीने की इच्छा कम होगी।

घरेलू पेय से करें पेट की चर्बी कम?

घरेलू पेय आपकी चयापचय दर को बढ़ा देते हैं और सोते समय इन्हें लेने से आपकी अतिरिक्त चर्बी कम होती है।

घरेलू पेय बनाने के लिए आपको 8 गिलास पानी में 1 चम्मच पिसी हुई अदरक, 1 ताजा छिला हुआ खीरा (पतली स्लाइस में), छोटे कटे हुए, नींबू के टुकड़े और पुदीने की लगभग 10-15 पत्तियों को मिक्स करें और एक जार में रात भर भिगो कर रखें। अगले दिन सुबह इस पेय का सेवन करें तथा दिन में 4-5 बार इसका सेवन करें।

एक अन्य पेय जो सोते समय पीने से बहुत तेज़ी से पेट की चर्बी घटाता है, जो कि इस प्रकार है :-

1 नींबू, 1 खीरा, 1 बड़ा चम्‍मच पिसा हुआ अदरक, 1 बड़ा चम्‍मच एलोवेरा रस और एक गुच्छा अजमोद को आधा गिलास पानी में डाल कर मिलायें और सोने से पहले इसका सेवन कर लें। इसमें मौजूद खीरा और नींबू फैट और विषाक्त पदार्थों को फ्लश करते हैं, जबकि अदरक पाचन को सही रखता है और अजमोद एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर होता है।

अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी
अगर अपनाएंगे ये कारगर उपाय तो तेजी से घटेगी पेट की चर्बी

तनाव से कॉरटिसोल स्टेरॉयड हार्मोन में वृद्धि उत्पन होती है। इस हार्मोन की मात्रा अधिक होने से पेट में फैट एकत्रित होने लगता है। अगर आपके खानपान की आदतें सही नहीं हैं। तो यह आपको भी ज्यादा और भी बुरा परिणाम दे सकता है। कॉरटिसोल की मात्रा संतुलित रखने के लिए कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (यह किसी कार्बोहायड्रेट युक्त खाद्य पदार्थ और उसका हमारे रक्त की शर्करा पर होने वाले असर का मापक है) वाला भोजन जैसे-मसूर की दाल, छोले, फलियां आदि खाना चाहिए।

पेट का चर्बी को कम करने के लिए कम से कम 8 घंटे की नींद लेना बहुत अति आवश्यक है। अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेते है तो इससे हार्मोन (ghrelin) उत्पन्न होता है। जो शर्करा और चर्बी बढ़ाने वाले भोजन को संरक्षण करता है। नींद पूरी न होने से कॉरटिसोल का स्तर बहुत अधिक बढ़ जाता है। जो पेट की चर्बी बढ़ने का मुख्य कारण है। एक अच्छी नींद तनाव के साथ साथ शरीर की थकान को भी दूर करती है।

शराब की लत आपके पेट की चर्बी का बहुत बड़ा कारण है। शराब में खाली कैलोरीज़ और वसा होते हैं। जो कमर के आसपास एकत्रित हो जाते हैं जिससे वो हिस्सा मोटा और भारी होने लगता है। इसलिए अगर आप भी पेट का मोटापा कम करना चाहते हैं। तो शराब की आदत छोड़ दें।

इंटरवल ट्रेनिंग है पेट का फैट कम करने का अचूक उपाय?

इंटरवल ट्रेनिंग एक प्रकार का शारीरिक प्रशिक्षण है। जिसमें अधिक तीव्रता का व्यायाम करते करते अचानक उसकी गति धीमी करते हैं। जैसे यदि आप ट्रेडमिल पर दौड़ रहे हैं तो शुरुआत में धीमी गति से दौड़ें फिर उसकी तीव्रता बढ़ा लें और थोड़ी देर बाद फिर धीमी कर लें। इस प्रकार एक्सरसाइज करने से पेट की चर्बी अत्यधिक तेज़ी से घटती है।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे

0
हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे
हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे

मित्रो हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी ने हरियाणा राज्य में प्रत्येक परिवार को अपनी विशिष्ट पहचान प्रदान करने के लिए “परिवार पहचान-पत्र (Family id)” से सम्बंधित एक पोर्टल की शुरुआत की। जिसका मुख्य मकसद सरकार द्वारा सभी वर्ग के लोगों के लिए कई सारी योजनाएं आरंभ की जाती हैं। इन योजनाओं का लाभ सभी लाभार्थियों तक पहुंचे सके। यह सुनिश्चित करने के लिए हरियाणा सरकार ने हरियाणा परिवार पहचान पत्र का आरंभ किया है।

Table of Contents

हम आपको इस लेख के माध्यम से हरियाणा परिवार पहचान पत्र से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है? इसका मुख्य उद्देश्य, हरियाणा परिवार पहचान पत्र का लाभ, विशेषताएं, हरियाणा परिवार पहचान पत्र पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, हरियाणा परिवार पहचान पत्र के लिए आवेदन प्रक्रिया, आवेदन करने के बाद अपने फार्म की जाँच कैसे करे आदि से सम्बन्धित आपको जानकारी देंगे।

दोस्तों यदि आप भी हरियाणा परिवार पहचान पत्र (Haryana Parivar Pehchan Patra )से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तो आप से विनम्र निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े। जिससे आपको हरियाणा परिवार पहचान पत्र से जुडी सारी जानकारी मिल सके और सभी हरियाणा वासी इसका लाभ ले सके।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे

हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है?

हरियाणा परिवार पहचान-पत्र’ इस योजना के अंतर्गत हरियाणा के प्रत्येक परिवार को 14 अंकों का विशिष्ट पहचान पत्र प्रदान किया जाएगा। जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सरकार द्वारा प्रदान किए जाने वाली सभी सेवाओं और योजनाओं का पूर्ण लाभ हरियाणा के प्रत्येक नागरिक तक पहुंच रहा है या नहीं। हरियाणा परिवार पहचान-पत्र संयुक्त तथा अलग परिवारों के लिए तैयार किया जाएगा। हरियाणा पहचान पत्र योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए आपको किसी भी सरकारी कार्यालय के चक्कर काटने की जरूरत नहीं पड़ेगी जिससे आपका पूरा समय बच जायेगा।

यह सरकार द्वारा एक समर्पित पोर्टल हरियाणा परिवार पहचान पत्र  बनवाने के लिए आरंभ किया गया है। आप इस पोर्टल के माध्यम से घर बैठे अपना पहचान पत्र बनवाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। जिसमें हरियाणा में रह रहे वह के नागरिको को 14 अंकों का विशिष्ट पहचान पत्र प्रदान किया जाएगा। जिसमे शीर्ष पर परिवार के मुखिया का नाम होगा। परिवार के सभी सदस्यो के नाम और उसके जन्म के तुरंत बाद परिवार पहचान-पत्र में जोड़ दिया जाएगा और लड़की की शादी के बाद उसका नाम उसके ससुराल के परिवार पहचान-पत्र में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

इसके लिए परिवार के मुखिया को अपने परिवार के पूरे विवरण के साथ फॉर्म अपने हस्ताक्षर के साथ अटल सेवा केंद्र या अंत्योदय सेवा केंद्र में जमा करना होगा, जिसको सम्बंधित विभाग द्वारा अपडेट किया जाएगा। अपडेट करने के बाद व्यक्ति को दो प्रिंट निकालने की अनुमति होगी। अपडेट के लिए पोर्टल पर नाम या पिता का नाम भरने के बाद उपलब्ध विकल्पों में से चयन करते हुए खोज करना बहुत आसान होगा।

यह पोर्टल ‘मेरा परिवार-मेरी पहचान’ कार्यक्रम में सौ प्रतिशत सफलता प्राप्त करने के संचालन को गति देगा। यह सरकार लोगों को विभिन्न नागरिक केंद्रित सेवाओं की स्वचालित डिलीवरी सुनिश्चित करने के लिए एवं पूरी तरह से भ्रष्टाचार पर रोक लगाने के लिए यह युद्ध स्तर पर परिवार प्रेरणा पथ बनाने पर काम कर रही है। सभी परिवारों के डेटाबेस के निर्माण के साथ, सामाजिक कल्याण योजनाओं का लाभ स्वचालित रूप से वास्तविक लाभार्थियों तक पहुंच सकेगा और जितना भी डेटाबेस गलत या नकली डेटाबेस पाया जायेगा वह उसे हटा देगा।

मित्रो अबतक लगभग 17 विभागों की 495 सेवाएं और बहुत सारी प्रमुख योजनाएं को ऑनलाइन पोर्टल अटल सेवा केंद्र पर उपलब्ध करा दिया गया हैं। जो लोग सरकार द्वारा संचालित योजनाओ और लाभ से जुडी जानकारी सरकारी कार्यालयों में प्राप्त करने के लिए जाते हैं। लेकिन अब भविष्य में वही योजनाओ का लाभ हरियाणा के नागरिको को हरियाणा सरकार उनके दरवाजे पर प्रदान करने का कार्य कर रही है। जहा हरियाणा में जिलेवार तरीके से सभी परिवारों का डेटा विभाग को उपलब्ध करा दिया जायेगा और जो अन्य विभाग अपनी कल्याणकारी योजनाओं के लिए उपयोग कर सकेंगे।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र की नई अपडेट?

हरियाणा राज्य के लोगो को अब राज्य सरकार की सरकारी योजनाओ का लाभ प्राप्त करने के लिए पहले की तरह अनेक दस्तावेज़ों को आवश्यकता नहीं होगी। अब हरियाणा राज्य के नागरिक एक ही हरियाणा परिवार पहचान पत्र (Haryana Parivar Pehchan Patra) के माध्यम से सरकार की सभी सुविधा और योजनाओ का लाभ उठा सकेंगे। इस पहचान पत्र में सभी परिवार सहित बाकी दस्तावेजों की एकीकृत जानकारी होगी।

वही इसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हरियाणा प्रदेश के सभी जिलों में इनका वितरण किया गया। जहा अभी तक प्रदेश में 56 लाख परिवारों का डेटाबेस को तैयार किया गया है। जिनमें अभी तक लगभग 18 लाख 28 हजार परिवारों के परिवार पहचान पत्र बनाने का कार्य तेजी से जारी है। जहा सितम्बर के प्रथम सप्ताह तक 20 लाख परिवारों को स्मार्ट कार्ड बनाकर उनको सौंप दिए जाएंगे तथा तीन महीने बाद किसी भी सरकारी योजना का लाभ उठाने के लिए परिवार पहचान पत्र अनिवार्य होगा।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र स्कीम 2021?

हरियाणा परिवार पहचान पत्र  एक सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना SECC-2011 के आधार पर राज्य के लाभार्थियों को सेवाओं और योजनाओं के सभी लाभों को वितरित किया जायेगा। इस योजना के अंतर्गत राज्य के 56 लाख परिवारों को लाभांवित किया जाने का उद्देश्य है। हरियाणा सरकार परिवार के विशेष पहचान पत्र में उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार परिवार की पात्रता (The eligibility address of the family as per the data available in the special identity card of the family) का पता लगाएगी।

तत्पश्चात फिर परिवार को सभी सेवाओ और योजनाओ का लाभ उन्हें प्रदान करेगी। हरियाणा राज्य के जो भी इच्छुक लाभार्थी Haryana Parivar Pehchan Patra बनवाना चाहते है। उनको सर्व प्रथम उसके लिए आवेदन करना होगा। हरियाणा परिवार पहचान पत्र के तहत सभी लाभार्थियों का पूरा ब्यौरा दर्ज किया जायेगा।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे
हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे

हरियाणा परिवार पहचान पत्र योजना का शुभारम्भ?

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनहर लाल खट्टर जी ने 4 जुलाई 2020 मंगलवार के दिन पंचकूला में कुल 20 परिवारों को हरियाणा परिवार पहचान पत्र देकर इस योजना का शुभारंभ कर दिया गया है। जहा हरियाणा में सभी परिवारों का एक प्रामाणिक सत्यापित और विश्वसनीय डाटा बेस को तैयार किया जायेगा और ततपश्चात् परिवार को पहचान पत्र से सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाओ को जोड़ा जा सकेगा।

जिससे हरियाणा राज्य के सभी परिवारों को सरकार द्वारा संचालित सभी कल्याणकारी योजना का लाभ आसानी से उन्हें मिल सकेगा। हरियाणा परिवार पहचान पत्र योजना के अन्तर्गत राज्य के नागरिको को उनकी पात्रता के आधार पर ही उन्हें योजनाओं का लाभ स्वत: ही मिल जाएगा। जिससे वह लाभवंतित हो सकेंगे।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र का उद्देश्य 2021?

इस परिवार पहचान पत्र के ज़रिये आप पूरे परिवार का डाटा बेस एक साथ तैयार कर सकेंगे। Haryana Parivar Pehchan Patra Scheme 2020-21 के अंतर्गत हरियाणा के 14 अंकों के विशिष्ट पहचान पत्र का उद्देश्य वह के नागरिको को केंद्रित सेवाओं के वितरण के साथ-साथ भ्रष्टाचार को कम करने और राज्य के नकली लाभार्थी का पता लगाने में पारदर्शिता प्रदान करना है। इस योजना के ज़रिये राज्य में लगभग 56 लाख परिवारों को लाभ प्रदान करना है। जहा हरियाणा 14 डिजिट परिवार पहचान पत्र योजना 2020-21 के ज़रिये पात्र लाभार्थियों को सभी सेवाओं और योजनाओं की स्वचालित डिलीवरी सुनिश्चित करना है।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र के लिए कैसे आवेदन करे?

हरियाणा के मुख़्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर ने राज्य में प्रत्येक परिवार को विशिष्ट पहचान प्रदान करने के लिए परिवार पहचान पत्र पोर्टल (meraparivar.haryana.gov.in) लॉन्च किया है। यह पोर्टल सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करके लोगों को पारदर्शी और आसान तरीके से सरकारी योजनाओं का लाभ प्रदान करने की सुविधा प्रदान करेगा। इस ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से हरियाणा राज्य के लोग परिवार पहचान पत्र बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। इस पोर्टल पर विकलांग पेंशन योजना, वृद्धावस्था पेंशन, सम्मान भत्ता और विधवा पेंशन योजना जैसी तीन सेवाओं को परिहार पेचन पत्र (पीपीपी) पोर्टल पर एकीकृत किया गया गया है।

हरियाणा 14 डिजिट परिवार पहचान पत्र?

दिनांक 24 जुलाई 2019 को सम्पन हुई हाल की बैठक में, जिला कोषालय अधिकारी राजबीर सिंह साहू ने कहा कि हरियाणा सरकार ने राज्य के सभी स्थायी और अनुबंध पर आधारित श्रमिकों के लिए एक अधिसूचना जारी की गयी है। इस दिशा निर्देश के अन्तर्गत, हरियाणा राज्य सरकार ने 29 जुलाई 2019 तक अद्वितीय हरियाणा पहचान पत्र बनाने के लिए अपने परिवार के पहचान से सम्बंधित दस्तावेज प्रस्तुत करने के लिए श्रमिकों को स्पष्ट रूप से एक समय सीमा प्रदान की गयी है।

जहा 25 जुलाई 2019 को मुख्यमंत्री जी ने चंडीगढ़ में 14 डिजिट परिवार पहचान पत्र की Official Website को लॉन्च किया। जहा इस Official Website पर आपको प्रत्येक विवरण जैसे आवेदन पत्र चयनित उम्मीदवार सूची और पंजीकरण प्रक्रिया की सुविधा मिलेगी।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र के मुख्य तथ्य?

  • हरियाणा परिवार पहचान पत्र में 14 अंक में यूनिक आईडी नंबर दिया होगा।
  • इस कार्ड में लाभार्थी का मोबाइल नंबर भी अनिवार्य होगा।
  • ससफलतापूर्वक पंजीकरण के बाद हरियाणा परिवार पहचान पत्र प्रत्येक परिवार को प्रदान किया जाएगा।
  • कार्ड के ऊपर फैमिली के मुखिया का नाम लिखा होगा।
  • हरियाणा परिवार पहचान पत्र पर परिवार से संबंधित अन्य जानकारी भी होगी।
  • पंजीकरण के बाद रजिस्ट्रेशन आईडी तथा पासवर्ड प्रत्येक परिवार को प्रदान किया जाएगा।
  • यदि परिवार को अपनी फैमिली डिटेल्स देखनी है तो उन्हें लॉगइन क्रैडेंशियल्स दर्ज करने होंगे। जिसके बाद वह अपने से सम्बंधित डिटेल्स देख पाएंगे।
  • परिवार पहचान पत्र पर फैमिली की डिटेल को भी अपडेट किया जा सकता है।
  • परिवार पहचान पत्र के माध्यम से अधिकारियों द्वारा किसी भी योजना के लाभार्थियों की पहचान की जा सकती है।
  • हरियाणा परिवार पहचान पत्र के माध्यम से पेंशन भी प्राप्त की जा सकती है।
  • इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक फैमिली को मॉनिटर किया जाएगा जिससे कि सही लाभार्थी तक स्कीम का लाभ पहुंचाया जा सके।
  • इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए सॉफ्टवेयर बनाया गया है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से लाभार्थियों की पात्रता चेक की जा सकती है।
  • यदि परिवार में किसी का जन्म होता है या फिर किसी की मृत्यु होती है तो उन्हें सर्टिफिकेट के लिए अप्लाई करने की आवश्यकता नहीं है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से यह जानकारी खुद अपडेट हो जाती है।
  • हरियाणा में किसी भी सरकारी योजना का लाभ उठाने के लिए परिवार पहचान पत्र होना अनिवार्य है।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र योजना 2020-21 के लाभ?

  • प्रत्येक  परिवार को परिवार पहचान कार्ड में एक यूनिक नंबर दिया जायेगा जो कि 14 अंको का नम्बर होगा । जो  हर परिवार के लिए यूनिक कोड का काम करेगा।
  • हरियाणा राज्य के लगभग 56 लाख परिवारों को इस योजना का लाभ मिलेगा।
  • इस परिवार पहचान पत्र के ज़रिये स्कूल कॉलेजो में एडमिशन लेने में किसी तरह की कोई कठिनाई नहीं होगी। बल्कि इससे उनको सहायता मिलेगी और सरकारी और निजी नौकरियों को प्राप्त करने में भी यह पूर्णत्या सहायक मिलेगी ।
  • Parivar Pehchan Patra Yojana Haryana के ज़रिये भष्टाचार को रोकने में काफी हद तक कमियाबी मिलेगी।
  • इस पोर्टल के माध्यम से पंजीकरण प्रक्रिया को गति मिलेगी।
  • इस पोर्टल पर सभी लाभार्थियों का डाटाबेस को अपलोड किया जाएगा जिसके माध्यम से उन्हें सभी सरकारी योजनाओं का लाभ उनके घर तक पहुंचाया जाएगा।
  • वे परिवार जिनका नाम सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना या SECC डेटाबेस सूची में पंजीकृत हैं, वे भी परिवार पहचान पत्र के लिए नामांकन फॉर्म भर सकते है।
  • परिवार पहचान पत्र कार्ड के द्वारा यह भी जानकारी मिलेगी लाभार्थी का परिवार किस क्षेत्र में रहता है। और सरकार हर क्षेत्र के लिए एक अलग यूनिक कोड बनाएगी. तथा शहर एवं गाँव के लिए अलग कोड होगा |

परिवार पहचान पत्र की पात्रता क्या होगी? 

  • आवेदक हरियाणा का स्थायी निवासी होना चाहिए ।
  • आवेदक के पास उसका आधार कार्ड होना आवश्यक है।
  • आवेदक के परिवार के पहचान सम्बन्धी दस्तावेज़।
  • आवेदक की विवाह की स्थिति।
  • आवेदक का मोबाइल नंबर होना आवश्यक है।
  • आवेदक का पासपोर्ट साइज फोटो होना आवश्यक है।

दस्तावेज सत्यापन में परिवार पहचान पत्र?

परिवार पहचान पत्र  के द्वारा इस योजना के अन्तर्गत राज्य सरकार अटल सेवा केंद्र, सरल केंद्रों, तहसील और पंचायत कार्यालय, ब्लॉकों, गैस एजेंसियों, स्कूलों, कॉलेजों, अन्य सरकारी और अर्द्ध सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में प्रमाणीकरण के लिए विभिन्न जिले में केंद्र स्थापित करने का लक्ष्य है। जहा प्रत्येक जिले में हरियाणा सरकार 56 लाख लाभार्थी डेटाबेस को सत्यापित करने के लिए 500 केन्द्रो का गठन करेगी। इन स्थानों पर राज्य के मूल निवासी आसानी से अपने परिवार के विवरण को सत्यापित और अद्यतन कर सकते है।

परिवार पहचान पत्र लाभार्थी सूची कैसे देखे?

  • राज्य के इच्छुक लाभार्थी परिवार पहचान पत्र सूची में अपने परिवार का नाम देखना चाहते है। तो उन्हें  सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना (SECC -11 ) अपनी स्थिति की जांच कर सकता है। जिससे उससे उसकी स्थिति का पता लग जायेगा।
  • यदि आपके परिवार का नाम सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना (SECC -11 ) है। तो उन्हें इस योजना के तहत शामिल किया जायेगा । यदि आप अपने परिवार का नाम SECC-2011 सूची के तहत नहीं है। तो आपको इस योजना का लाभ उठाने के लिए ऊपर की तरफ दी गयी प्रक्रिया का पालन करना होगा।
  • इसके बाद आप हरियाणा 14 डिजिट के परिवार पहचान पत्र का लाभ पूर्ण रूप से उठा सकते हो।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र के लिए आवेदन कैसे करे?

  • राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी हरियाणा परिवार पहचान पत्र बनवाने के लिए आवेदन करना चाहते है। उनको एसडीएम कार्यालय, तहसील, ब्लॉक कार्यालय, स्कूलों, राशन डिपो, गैस एजेंसियों आदि में जाकर परिवार पहचान पत्र का फॉर्म प्राप्त करना होगा ।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे नाम ,पता, मोबाइल नम्बर, आधार नंबर आदि से सम्बंधित जानकारी सही सही भरनी होगी। सभी जानकारी भरने के बाद आपको आवेदन फॉर्म  के साथ अपने और अपने परिवार के सभी दस्तावेज़ों को अटैच करना होगा ।
  • तत्पश्चात आपको उसी कार्यालय में अपना आवेदन फार्म को जमा करना है। जहां से आपने आवेदन फॉर्म लिया है। और इस तरह आप हरियाणा परिवार पहचान पत्र के लिए आवेदन कर पाएंगे।

हरियाणा परिवार पहचान पत्र योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करे?

  • सबसे पहले आवेदक को परिवार पहचान पत्र योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। इस ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • ऑफिसियल वेबसाइट के पोर्टल पर राज्य के लोग देख सकते हैं। कि विकलांग पेंशन, विधवा पेंशन, वृद्धावस्था पेंशन योजनाओं के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया कैसे लागू की जाए। इसके अनुसार, CSCs के ऑपरेटर फिर पेंशन योजनाओं के आवेदन फॉर्म ऑनलाइन भर सकते हैं।
  • इन परिवार पहचान पत्र योजना रूपों को संबंधित चित्रण द्वारा अद्यतन किया जाएगा। अपडेट करने के पश्चात व्यक्ति को दो प्रिंट-आउट निकालने की अनुमति होगी।

परिवार पहचान पत्र को  अपडेट कैसे करें?

  • सबसे पहले आपको इस योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा। ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • इस होम पेज पर आपको Update Family Details का ऑप्शन दिखाई देगा। इस ऑप्शन पर आपको क्लिक करना होगा। ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा।
  • इस पेज पर अगर आपके पास अपनी 8 अंकों या पूर्व में जारी 12 अंकों की फ़ैमिली आईडी है तो “YES” पर क्लिक करना होगा  और अपना आधार नंबर डालकर आगे बढ़ जाना है।
  • अब आपको अपनी 8 अंक (या पूर्व में जारी 12 अंक) की फैमिली आईडी दर्ज करनी होगी। फैमिली आईडी दर्ज करने के बाद परिवार के मुखिया के मोबाइल नम्बर पर एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) प्राप्त होगा। यह मोबाइल नम्बर होगा जो पीपीपी डेटाबेस में पहले से ही संग्रहित है।
  • अगर आप अपनी फॅमिली आईडी भूल गए हैं तो “Forgot Family ID” के बटन पर क्लिक करें और परिवार के मुखिया का आधार नंबर डालकर ओटीपी Verify करें। और उसके बाद आप अपना पासवर्ड रिकवर कर पाएंगे।
  • सही ओटीपी दर्ज करने उपरांत पीपीपी पृष्ठ पर बिन्दु न. 02 के तहत दर्ज की गई फैमिली आईडी में पंजीकृत परिवार के सभी सदस्यों का डेटा दिखाई देगा।
  • अगर आपको पहले से शामिल सदस्य की जानकारी अपडेट करनी है। तो सदस्य के नाम के सामने “MEMBER DETAILS” के बटन पर क्लिक करें और यदि आपको नया फॅमिली मेम्बर जोड़ना है। तो “Add Member” के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद मेम्बर डिटेल्स फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी भरें और इसे प्रिंट करके इस पर नए सदस्य के हस्ताक्षर करवाएँ और फिर इसे स्कैन / फोटो लेकर अपलोड करें।
  • सभी जानकारी भरने के बाद फॉर्म SUBMIT करें। पीपीपी पोर्टल पर जानकारी अपडेट करने या नया सदस्य जोड़ने पर परिवार के मुखिया के मोबाइल नंबर पर SMS के द्वारा जानकारी पहुंचाई जाएगी।
हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे

हरियाणा परिवार पहचान पत्र ऑपरेटर लॉगिन करने की पूरी जानकारी?

  • सर्वप्रथम आपको हरियाणा परिवार पहचान पत्र की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको ऑपरेटर लॉगइन के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने लॉगइन पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको अपना यूजरनेम और अपना पासवर्ड तथा कैप्चा कोड डालकर दर्ज देना होगा।
  • अब आपको लॉगिन के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप लॉगिन कर पाएंगे।
  • हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे
    हरियाणा परिवार पहचान पत्र क्या है और फैमिली आईडी के फायदे

महतवपूर्ण जानकारी:

आवेदन करते समय आवेदक अपना मोबाइल नंबर एवं अपनी ईमेल आईडी को दर्शाये गए कॉलम में अनिवार्य रूप से डालना सुनिश्चित करें। आपके द्वारा किये गए आवेदन पश्चात आवेदन की स्थिति (status) की जानकारी आपको भेजी जाती है। आवेदकों को डिजिलॉकर और उमंग पोर्टल पर भी अपना पंजीकरण अनिवार्य रूप से कर लेना चाहिए। चूँकि आवेदक द्वारा किये गए प्रमाण पत्र की प्रति डिजिलॉकर पर उपलब्ध कराई जाती है। जिसे आवेदक आवेदन को भविष्य में कभी भी डाउनलोड कर सकता है।

डिजिलॉकर और उमंग पोर्टल पर आवेदक द्वारा किये गए प्रत्येक सरकारी प्रमाण पत्र की प्रति जैसे आधार कार्ड, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, शेक्षणिक प्रमाण पत्र , वाहन रजिस्ट्रेशन प्रमाण आदि डिजिलॉकर पर भी उपलब्ध करवाई जाती है। जिसे आवेदन भविष्य में कभी भी डाउनलोड कर सकता है |

मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये

0
मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये
मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये

मित्रो आजकल के इस भागदौड़ भरे युग में अनियमित जीवन शैली के चलते जो सबसे ज्यादा बीमारी सर्वाधिक लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रही है। वह है मधुमेह। मधुमेह (डयबिटीज) या शुगर को धीमी मौत भी कहा जाता है। यह ऐसी मधुमेह एक ऐसी गंभीर बीमारी है। जो एक बार किसी के शरीर को पकड़ ले तो वह फिर उस व्यक्ति को जीवन भर नहीं छोड़ती। इस बीमारी का जो सबसे बुरा पक्ष है। कि यह शरीर में मधुमेह के साथ-साथ अन्य कई तरह की बीमारियों को भी निमंत्रण देता है। मधुमेह के रोगियों को उनकी आंखों में दिक्कत, किडनी और लीवर की बीमारी और पैरों में दिक्कत होना एक आम बात है। ध्यान देने वाली बात ये है कि पहले यह मधुमेह 40-45 की उम्र के बाद ही होती थी।लेकिन वक़्त के साथ इसमें भी बदलाव आया और आजकल तो बच्चों में भी इसका लक्षण देखने को मिलने लगा है। जोकि चिंता का विषय हो गया है।

Diabetes Freedom-Click here 

मित्रो लेकिन आज हम आपको इस लेख में एक ऐसे घरेलू नुस्खे के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसका इस्तेमाल करके आप मधुमेह (डयबिटीज) या शुगर की बीमारी से छुटकारा आसानी से पा सकते हैं। सबसे अच्छी बात वो ये है।  कि इसके उपयोग करने से आपको कोई साइड इफेक्‍ट भी नहीं होगा। आपको बता दें कि मधुमेह के बीमारी के ये घरेलू इलाज सबसे बेहतरीन असरदार है। इसके लिए आपको कुछ पत्तो की आवश्यकता होगी। उन पत्तो का नाम आर्क के पत्‍ते होते है। जिनकी आपको आवश्‍यकता पड़ने वाली है। मित्रो ये पौधा विषैला होने के बावजूद भी इस पौधे में कई औषधिय गुण पाएं जाते हैं। इसके फूल-पत्तियों का इस्तेमाल अस्थमा, डायबिटीज, कुष्ठ रोग और बवासीर जैसी घातक बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। आक, मदार, अर्क या अकोवा के नाम से पहचाने जाने वाले इस पौधे से और भी बीमारिया जैसे स्किन में एलर्जी या खुजली जैसी समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये
मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये

मधुमेह कैसे होता है?

मित्रो सवाल ये है कि मधुमेह होता कैसे है। तो इसका जवाब है कि जब किसी भी व्यक्ति के शरीर में पैंक्रियाज में इंसुलिन का पहुंचना कम हो जाता है। तो व्यक्ति के खून में ग्लूकोज का स्तर धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। और इसी स्थिति को डायबिटीज कहा जाता है। चूँकि इंसुलिन एक हार्मोन है। जोकि पाचक ग्रंथि द्वारा बनता है।

Diabetes Freedom-Click here 

इसका कार्य शरीर के अंदर भोजन को एनर्जी में बदलने का होता है। यही वह हार्मोन होता है। जो हमारे शरीर में शुगर की मात्रा को कंट्रोल करता है। मधुमेह हो जाने पर शरीर को भोजन से एनर्जी बनाने में कठिनाई होती है। इस स्थिति में ग्लूकोज का बढ़ा हुआ स्तर व्यक्ति शरीर के विभिन्न अंगों को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है।

मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये
मधुमेह क्या है मधुमेह होने का लक्षण और मधुमेह से बचाव के उपाये

चूँकि मधुमेह (डयबिटीज) महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में अधिक होता है। मधुमेह ज्यादातर वंशानुगत और जीवनशैली बिगड़ी होने के कारण होता है। इसमें वंशानुगत को टाइप-1 और अनियमित जीवनशैली की वजह से होने वाले मधुमेह को टाइप-2 श्रेणी में रखा जाता है। प्रथम श्रेणी के अंतर्गत उन लोगो को शामिल किया गया हैं। जिनके परिवार में माता-पिता, दादा-दादी में से किसी को मधुमेह हो तो परिवार के सदस्यों को यह बीमारी होने की संभावना अधिक रहती है। इसके अलावा यदि आप शारीरिक श्रम कम करते हैं। और आपकी नींद पूरी नहीं होती, अनियमित खानपान और ज्यादातर फास्ट फूड और मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। तो भी मधुमेह होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।

Diabetes Freedom-Click here 

मधुमेह बड़ा खतरा?

डायबिटीज के मरीजों में सबसे ज्यादा बड़ा खतरा मौत हार्ट अटैक या स्ट्रोक से होती है। जिस व्यक्ति को डायबिटीज होता है। उनमें हार्ट अटैक का खतरा आम व्यक्ति के मुकाबले में पचास गुना ज्यादा बढ़ जाता है। शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने से हार्मोनल बदलाव होता है। और उसकी कोशिशएं क्षतिग्रस्त होने लगती हैं। जिससे खून की नलिकाएं और नसें दोनों प्रभावित होती हैं।

Diabetes Freedom-Click here 

इससे धमनियों में रुकावट आने लगती है जिससे हार्ट अटैक हो सकता है। और स्ट्रोक का खतरा भी मधुमेह रोगी को बढ़ जाता है। जैसे की हमने बताया कि डायबिटीज आपकी आँखों को भी नुक्सान पहुँचता है। तो मधुमेह का लंबे समय तक इलाज न करने पर यह आंखों की रेटिना को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे व्यक्ति हमेशा के लिए अंधा भी हो सकता है।

 What is diabetes, symptoms of diabetes and ways to prevent diabetes
What is diabetes, symptoms of diabetes and ways to prevent diabetes

मधुमेह के मुख्य लक्षण?

मधुमेह होने के कुछ मुख्य लक्षण है। जैसे ज्यादा प्यास लगना, बार-बार पेशाब का आना, आँखों की रौशनी कम होना, कोई भी चोट या जख्म देरी से भरना, हाथों, पैरों और गुप्तांगों पर खुजली वाले जख्म, बार-बर फोड़े-फुंसियां निकलना, चक्कर आना, चिड़चिड़ापन आदि।

मधुमेह होने से बचाव के कुछ अचूक उपाए?

मित्रो अपने ग्लूकोज स्तर की नियमित जांच करे और भोजन से पहले यह 100 और भोजन के बाद 125 से ज्यादा है, तो सतर्क हो जाएं। हर तीन महीने पर HbA1c टेस्ट कराते रहें जिससे कि आपके शरीर में शुगर के वास्तविक स्तर का पता चलता रहे। और आप फिर उसी के अनुरूप अपने डॉक्टर से परामर्श कर दवाइयां का सेवन करे।

आपको चाहियें कि आप अपनी जीवनशैली में बदलाव करें और शारीरिक श्रम करना शुरू करें। जिम नहीं जाना चाहते हैं तो मत जाये लेकिन सुबह उठ कर योग जरूर करे या फिर आप दिन में तीन से चार किलोमीटर तक जरूर पैदल चलें।

आपको अपने अनुसार भोजन को लेना है। आपको हमेशा कम कैलोरी वाला भोजन को खाना है। अगर आप मीठे के बहुत शौकीन है तो आपको मीठे का परहेज करना आवशयक होगा। ध्यान रहे की भोजन में मीठे का बिलकुल सेवन न करे। हरी ताज़ी सब्जियां, ताज़े फल, साबुत अनाज, डेयरी उत्पादों और ओमेगा-3 वसा के स्रोतों को अपने भोजन में अवश्य शामिल कीजिये। साथ ही इसके अलावा भरपूर मात्रा में फाइबर का भी सेवन करना चाहिए। मित्रो आपको दिन में तीन समय खाने की बजाय उतने ही खाने को छह या सात बार में खाएं । आपको धूम्रपान और शराब का सेवन कम कर दें या संभव हो तो बिलकुल छोड़ दें। क्योकि ये आपके लिए काफी हानिकारक हो सकता है।

ये भी पढ़े:- पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

अगर आप आफिस जाते है तो आपको ध्यान रखना चाहियें कि आफिस के काम की ज्यादा टेंशन आपको नहीं रखनी है। और जितना  हो सके रात को पर्याप्त नींद लें। कम नींद आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं और आपको नुक्सान पंहुचा सकता है। हमेशा आप अपने तनाव को कम करने के लिए संगीत को सुन सकते है या आप चाहे तो अपने ध्यान को कही और केंद्रित करे।

नियमित रूप से स्वास्थ्य की जांच कराते रहें और मधुमेह के लेवल को रोजाना मॉनीटर करें ताकि वह कभी भी लेवल से ज्यादा या कम न हो। एक बार डॉयबिटीज शुगर बढ़ जाता है। तो उसके मधुमेह के लेवल को नीचे लाना काफी मुश्किल काम होता है। और इस दौरान आपका बढ़ा हुआ शुगर स्तर शरीर के अंगों पर अपना बुरा प्रभाव छोड़ता रहता है। जो कि आपके लिए काफी हानिकारक होता है।

आप चाहे तो गेहूं और जौ 2-2 किलो की मात्रा में लेकर एक किलो चने के साथ पिसवा लें। इस आटे की बनी चपातियां ही भोजन में खाएं। मधुमेह रोगियों को अपने भोजन में करेला, मेथी, सहजन, पालक, तुरई, शलगम, बैंगन, परवल, लौकी, मूली, फूलगोभी, ब्रौकोली, टमाटर, बंद गोभी और पत्तेदार सब्जियों को शामिल करना चाहिए।

आपको चाहियें कि फलों में जामुन, नींबू, आंवला, टमाटर, पपीता, खरबूजा, कच्चा अमरूद, संतरा, मौसमी, जायफल, नाशपाती को शामिल करें। जिससे यह आपको काफी लाभ पंहुचा सकता है।

मित्रो आपको आम, केला, सेब, खजूर तथा अंगूर नहीं खाना चाहिए क्योंकि इनमें शुगर  मात्रा ज्यादा होता है।

आपको मेथी दाना रात को भिगो दें और सुबह प्रतिदिन खाली पेट उसे खाना चाहिए।

आप चाहे तो खाने में बादाम, लहसुन, प्याज, अंकुरित दालें, अंकुरित छिलके वाला चना, सत्तू और बाजरा आदि शामिल कर सकते है ऐसे करना आपके लिए लाभ दयाक होगा।

आपको चाहियें कि आप चिकनी चीज़ो से दूर रहे जैसे-आलू, चावल और मक्खन आदि। जिससे ये आपको हानि न पंहुचा सके।

इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

0
पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे
पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

मित्रो आजकल के इस भागदौड़ भरे युग में अनियमित जीवन शैली के चलते जो सबसे ज्यादा बीमारी सर्वाधिक लोगों को अपनी गिरफ्त में ले रही है। वह है मधुमेह। मधुमेह (डयबिटीज) या शुगर को धीमी मौत भी कहा जाता है। यह ऐसी मधुमेह एक ऐसी गंभीर बीमारी है। जो एक बार किसी के शरीर को पकड़ ले तो वह फिर उस व्यक्ति को जीवन भर नहीं छोड़ती।

इस बीमारी का जो सबसे बुरा पक्ष है। कि यह शरीर में मधुमेह के साथ-साथ अन्य कई तरह की बीमारियों को भी निमंत्रण देता है। मधुमेह के रोगियों को उनकी आंखों में दिक्कत, किडनी और लीवर की बीमारी और पैरों में दिक्कत होना एक आम बात है। ध्यान देने वाली बात ये है कि पहले यह मधुमेह 40-45 की उम्र के बाद ही होती थी।लेकिन वक़्त के साथ इसमें भी बदलाव आया और आजकल तो बच्चों में भी इसका लक्षण देखने को मिलने लगा है। जोकि चिंता का विषय हो गया है।

Diabetes Freedom-Click here 

मित्रो लेकिन आज हम आपको इस लेख में एक ऐसे घरेलू नुस्खे के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसका इस्तेमाल करके आप मधुमेह (डयबिटीज) या शुगर की बीमारी से छुटकारा आसानी से पा सकते हैं। सबसे अच्छी बात वो ये है।  कि इसके उपयोग करने से आपको कोई साइड इफेक्‍ट भी नहीं होगा। आपको बता दें कि मधुमेह के बीमारी के ये घरेलू इलाज सबसे बेहतरीन असरदार है। इसके लिए आपको कुछ पत्तो की आवश्यकता होगी। उन पत्तो का नाम आर्क के पत्‍ते होते है। जिनकी आपको आवश्‍यकता पड़ने वाली है।

मित्रो ये पौधा विषैला होने के बावजूद भी इस पौधे में कई औषधिय गुण पाएं जाते हैं। इसके फूल-पत्तियों का इस्तेमाल अस्थमा, डायबिटीज, कुष्ठ रोग और बवासीर जैसी घातक बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। आक, मदार, अर्क या अकोवा के नाम से पहचाने जाने वाले इस पौधे से और भी बीमारिया जैसे स्किन में एलर्जी या खुजली जैसी समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे
पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

मधुमेह कैसे होता है?

मित्रो सवाल ये है कि मधुमेह होता कैसे है। तो इसका जवाब है कि जब किसी भी व्यक्ति के शरीर में पैंक्रियाज में इंसुलिन का पहुंचना कम हो जाता है। तो व्यक्ति के खून में ग्लूकोज का स्तर धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। और इसी स्थिति को डायबिटीज कहा जाता है। चूँकि इंसुलिन एक हार्मोन है। जोकि पाचक ग्रंथि द्वारा बनता है।

Diabetes Freedom-Click here 

इसका कार्य शरीर के अंदर भोजन को एनर्जी में बदलने का होता है। यही वह हार्मोन होता है। जो हमारे शरीर में शुगर की मात्रा को कंट्रोल करता है। मधुमेह हो जाने पर शरीर को भोजन से एनर्जी बनाने में कठिनाई होती है। इस स्थिति में ग्लूकोज का बढ़ा हुआ स्तर व्यक्ति शरीर के विभिन्न अंगों को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है।

रात को पैर के तलवे पर इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे
पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

चूँकि मधुमेह (डयबिटीज) महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में अधिक होता है। मधुमेह ज्यादातर वंशानुगत और जीवनशैली बिगड़ी होने के कारण होता है। इसमें वंशानुगत को टाइप-1 और अनियमित जीवनशैली की वजह से होने वाले मधुमेह को टाइप-2 श्रेणी में रखा जाता है। प्रथम श्रेणी के अंतर्गत उन लोगो को शामिल किया गया हैं।

जिनके परिवार में माता-पिता, दादा-दादी में से किसी को मधुमेह हो तो परिवार के सदस्यों को यह बीमारी होने की संभावना अधिक रहती है। इसके अलावा यदि आप शारीरिक श्रम कम करते हैं। और आपकी नींद पूरी नहीं होती, अनियमित खानपान और ज्यादातर फास्ट फूड और मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं। तो भी मधुमेह होने की संभावना बहुत अधिक बढ़ जाती है।

Diabetes Freedom-Click here 

बड़ा खतरा?

डायबिटीज के मरीजों में सबसे ज्यादा बड़ा खतरा मौत हार्ट अटैक या स्ट्रोक से होती है। जिस व्यक्ति को डायबिटीज होता है। उनमें हार्ट अटैक का खतरा आम व्यक्ति के मुकाबले में पचास गुना ज्यादा बढ़ जाता है। शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने से हार्मोनल बदलाव होता है। और उसकी कोशिशएं क्षतिग्रस्त होने लगती हैं। जिससे खून की नलिकाएं और नसें दोनों प्रभावित होती हैं।

Diabetes Freedom-Click here 

इससे धमनियों में रुकावट आने लगती है जिससे हार्ट अटैक हो सकता है। और स्ट्रोक का खतरा भी मधुमेह रोगी को बढ़ जाता है। जैसे की हमने बताया कि डायबिटीज आपकी आँखों को भी नुक्सान पहुँचता है। तो मधुमेह का लंबे समय तक इलाज न करने पर यह आंखों की रेटिना को नुकसान पहुंचा सकता है। इससे व्यक्ति हमेशा के लिए अंधा भी हो सकता है।

पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे
पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

मधुमेह के मुख्य लक्षण?

मधुमेह होने के कुछ मुख्य लक्षण है।

जैसे ज्यादा प्यास लगना, बार-बार पेशाब का आना, आँखों की रौशनी कम होना, कोई भी चोट या जख्म देरी से भरना, हाथों, पैरों और गुप्तांगों पर खुजली वाले जख्म, बार-बर फोड़े-फुंसियां निकलना, चक्कर आना, चिड़चिड़ापन आदि।

आक, मदार, अर्क या अकोवा का प्रयोग कैसे करें?

दोस्तों इसको इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले आप एक आक, मदार, अर्क या अकोवा के पत्ता को ले लीजिये। अब आपको इसके ऊपर वाले हिस्से की हल्की लकड़ी को काट लें, तत्पश्चात फिर अब आप आक, मदार, अर्क या अकोवा के चिकने वाले हिस्से को अपने पैरो के तलवो पर बांध लेना है।

पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे
पैर के तलवे पर रात को इस पत्ते को बांधने से दूर होती है मधुमेह, जाने कैसे

ध्यान देने वाली बात यहाँ ये है कि आक, मदार, अर्क या अकोवा का पत्ता आपके पैरो के तलवो पर टीका रहना चाहिए। इसलिए इसे अच्छे से बांध लीजिये। ताकि ये आपके  तलवो से खुले नहीं। अब आप अर्क के पत्ते को रात भर बांध इसी प्रकार से अपने तलवे से बंधे रहने दें। रात भर पैरो के तलवो में बंधे रहने के बाद सुबह इस पत्‍ते को खोल दीजिये। आपको इस प्रक्रिया को लगातार 20 दिनों तक करना है। ऐसा करने से आपकी शुगर की समस्या जल्द ही खत्म हो जाएगी।

मित्रो अगर लेख में कोई त्रुटि हुई तो उसके लिए छमा कीजियेगा और अगर आपको ये लेख पसंद आया हो तो आप हमें फॉलो कर सकते है साथ ही आप हमें कमेंट बॉक्स में अपनी राय भी दे सकते है।

वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

0
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

उत्तर प्रदेश वोटर आईडी कार्ड के लिए कैसे आवेदन करे आज की लेख में हम आपके साथ साझा करेंगे वोटर आईडी कार्ड कैसे बनाये और पिछली लेख में हमने आपको बताया था की SSC CGL Recuritment 2021 कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, जल्द करें अप्लाई

मित्रो क्या आप जानते है। आईडी कार्ड बनाने के लिए ऑनलाइन अप्लाई कैसे करे (Voter ID Card Banane Ke Liye Online Apply Kaise Kare) और आईडी कार्ड बनाने के लिए के लिए किस किस डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता पड़ती है। मित्रो आप भी अगर आप नही जानते की उत्तर प्रदेश के लिए वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं और वोटर आईडी कार्ड को कैसे निकले, तो आज की यह लेख आप लोगो के लिए बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। क्युकी इस लेख में हम आपको आईडी कार्ड से सम्बंधित जानकारी देंगे।

आज भारत में रहने वाले सभी भारतीय नागरिको के लिए जिनकी उम्र 18 साल है। या 18 साल हो चुकी है। उन भारतीय नागरिको के लिए वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card) होना जरुरी आवश्यक है। और वह सभी लोग जिनको अपना वोटर आईडी कार्ड बनवाना है। वो अपना वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन (Voter ID Online) बनवा सकते है। मित्रो अगर आपके पास अभी तक वोटर आईडी कार्ड नहीं है। तो आप भी वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन आसानी से आवेदन कर बना सकते है।

मित्रो वोटर आईडी कार्ड सिर्फ चुनाव के दौरान वोट डालने के काम ही नहीं आता है, बल्कि यह वोटर आईडी बहुत से ऐसे सरकारी कामो के लिए भी उपयोग में लिया जाता है। जहा इसकी आवश्यकता होती है। चूँकि वोटर आईडी कार्ड के जरिये ही सरकारी पहचान के लिए प्रूफ के तौर पर भी माना जाता है। यह एक तरह से हमारा पहचान होती है। सभी लोगो के  पास अपना वोटर आईडी कार्ड होना चाहिए ।  हम आपको बतायेगे कि आप किस प्रकार Online Apply करके अपना Voter Id Card 2021 के लिए बनवा सकते है |

अगर आप जानना चाहते है कि आईडी कार्ड बनाने के लिए ऑनलाइन अप्लाई कैसे करे, तो आप मेरे इस लेख को अंत तक ध्यान से पढ़े। क्युकी इस लेख में आपको वोटर कार्ड बनाने की पूरी विधि की जानकारी मिल जाएगी तो आइये जानते है कि वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में।

वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन का मुख्य उद्देश्य

चूँकि पहले लोगो को अपना वोटर आईडी कार्ड बनवाने के लिए सरकार दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते थे। और लोगो को बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था। इस समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन अप्लाई करने की प्रक्रिया को शुरू किया है। देश के लोगो को ऑनलाइन सुविधा प्रदान करना | जिससे भारत के लोगो को किसी भी परेशानियों का सामना न करना पड़े। अब देश के सभी नागरिक घर बैठे ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से वोटर आईडी बनाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सके |

वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन बनवाने के लिए लगने वाले कागजात?

मित्रो वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन करने से पहले आपको यह जानकारी होना आवश्यक है कि वोटर आईडी कार्ड बनाने के लिए कुछ कागजात भी लगते है। जैसे आपके पास खुद का फोटो, ड्राइविंग लाइसेंस आपका घर का प्रूफ, आयु प्रमाण पत्र, और आयु का प्रूफ का प्रमाण पत्र होना आवश्यक है। वो हम आपको नीचे बता देते है। तो यह भी जान लीजिये कि Voter Card Apply Kaise Kare

वोटर आईडी कार्ड के लिए आवश्यक कागजात?

1. एड्रेस प्रूफ के तौर पर लगने वाला कागजात  

  • राशन कार्ड
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • वाटर की सप्लाई का बिल
  • बिजली बिल
  • मोबाइल नंबर
  • टेलीफोन बिल
  • घर के रेंट का बिल

2. उम्मीदवार की आयु प्रूफ के तौर पर लगने वाला कागजात  

  • बर्थ सर्टिफिकेट
  • 8वी, और 10वी की मार्कशीट होना आवश्यक है

वोटर आईडी कार्ड बनवाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करे?(Voter ID Card Banane Ke Liye Online Apply Kaise Kare)

देश में जो लोग अपना वोटर वोटर आईडी कार्ड बनवाने के लिए आवेदन करना चाहते है तो वह नीचे दिए गए तरीके को फॉलो करे |वोटर आईडी कार्ड बनवाने के लिए सबसे पहले आपको NVSP (National Voters Service Portal) की Website पर जाना होगा। इस होम पेज पर आपको Register Now TO Vote का ऑप्शन दिखाई देगा | आपको इस ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।

Option पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा | इस पेज पर आपको जिसमें निम्नलिखित अनुभाग यहां दिखाई देगा।अगर आप नए उम्मीदवार हैं और एक नया राशन कार्ड बनवाना चाहते हैं। तो पहले खंड और भरें फॉर्म -6 पर क्लिक करें। इसमें आपको आपकी सारी Information बिल्कुल सही सही भरना होगा है।

वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 1

  1. सबसे पहले फॉर्म खुलने पर अपनी भाषा का चुनाव करे। अपनी भाषा का चुनाव करने के बाद अपना स्टेट, जिला, असेंबली/पार्लीमेंट्री का चुनाव करे। अगर आप प्रथम बार आवेदन कर रहे है। तो As A First Time Voter चुने। अगर आप किसी Assembly से Transfer करना चाहते है तो Due To Shifting From Another Constituency Option Select करे।
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 2

  1. Mandatory Particulars में Name के सामने आपका पूरा Name लिखे Left में English में और Right Side में हिंदी में लिखे।
  2. Surname If Any में आपका Surname लिखे Left में English में और Right Side में हिंदी में लिखे।
  3. Name Of Relative Of Applicant में अपने किसी Relative का Name लिखे जो पहले से Voter List में शामिल हो English और Hindi में लिखे।
  4. Relative का Last Name लिखे English और Hindi में लिखे।
  5. Type Of Relation में आपका Relative के साथ क्या सम्बन्ध है वह लिखे।
  6. Date Of Birth (In dd/mm/yyyy) लिखे।
  7. Gender Of Applicant में Male, Female को चुने।
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 3

Current Address Where Applicant Is Ordinarily Resident के इस Option में आपके Current Address और Permanent Address की जानकारी भरनी है।

  1. अपनी House Number लिखे Left Side में English में और Right Side में Hindi में लिखे|
  2. अपनी Street/ Area /Locality लिखे English और Hindi दोनों में लिखे|
  3. अपनी Town/Village लिखे English और Hindi दोनों में लिखे|
  4. अपनी पोस्ट ऑफिस लिखे English और Hindi में|
  5. अपनी पोस्ट ऑफिस का पिनकोड लिखे|
  6. अपनी स्टेट का चुनाव करे|
  7. अपना डिस्ट्रिक्ट का चुनाव करे|
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 4

अगर आपका और कोई भी परमानेंट एड्रेस है, तो यहाँ उसको दर्शा सकते है। अन्यथा Same Address रखने के लिए Same As Above पर Tick करे।

वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 5

  1. अगर आप में कोई अक्षमता है। तो आप यहाँ Tick करे और अगर नही है तो किसी पर भी Tick नहीं करे।
  2. आप चाहे तो अपना ईमेल आईडी दे सकते अन्यथा आप चाहे तो उसे खाली छोड़ दे।
  3. अपना मोबाइल नंबर लिखे।
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 6

  1. यहाँ आपको अपना Passport Size Photo को Upload करे।
  2. अपने जन्म प्रमाण पत्र के लिए जो भी कागजात है। उसे Upload करे और उसका Type Select करे।
  3. यहाँ आप अपने Address Proof के लिए जो Document है उसे Upload करे और उसका Type Select करे।
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

Step 7

  1. आप अपने टाउन विलेज का नाम लिखे।
  2. अपने स्टेट का चुनाव करे।
  3. अपने डिस्ट्रिक्ट का चुनाव करे।
  4. डेट में आप अपनी Date Of Birth डाले।
  5. अगर आपका पहले से Voter List में Name नहीं है। तो इसे Tick करे और अगर है तो इसके निचे वाले को Tick करे।
  6. अपनी Place में अपने District का Name लिखे।
  7. डेट में उस दिन की डेट डाले जिस दिन आप आवेदन कर रहे है।
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में

तत्पश्चात अब आपको पूरा फॉर्म को अच्छे से एक बार पूरा चेक कर ले। अगर सब कुछ सही है तो आप सबमिट पर क्लिक कर दे। अब आपका अनुरोध भारत निर्वाचन आयोग तक पहुँच चुकी है। और अब वो इसे वेरीफाई करेंगे फिर आपका वोटर आईडी बनकर तैयार हो जाएगा तो वो आपके एड्रेस पर उसे भेज देंगे। या आप उसे अपने BLO से प्राप्त कर सकते है। या आप उसे अपने तहसील से भी  प्राप्त कर सकते है।

मतदाता सूची में अपना नाम खोजने की प्रक्रिया?

  • सर्वप्रथम आपको राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने भारत चुनाव आयोग का होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको सर्च इन इलेक्टरल रोल के लिंक पर क्लिक करना होगा।

वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
  • तत्पश्चात आपके सामने एक फॉर्म खुलकर आएगा जिसमें आप कुछ आपसे जुडी जानकारी भरकर मतदाता सूची में अपना नाम खोज सकते हैं।
  • यदिआप विवरण द्वारा भी खोज सकते हैं। तथा पहचान पत्र के द्वारा भी मतदाता सूची में अपना नाम खोज सकते हैं।
  • यदि आप विवरण द्वारा अपना नाम खोजना चाहते हैं तो आप विवरण द्वारा खोजें के लिंक पर क्लिक करिए और फिर पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी भरिए।
  • यदि आप पहचान पत्र के द्वारा मतदाता सूची में अपना नाम देखना चाहते हैं तो आप पहचान पत्र के द्वारा खोजे के लिंक पर क्लिक करे और अपना ईपीआईसी नंबर तथा राज्य का नाम डालना होगा।
  • इसके पश्चात आपको खोजने के बटन पर क्लिक करे। जिसके बाद आपके सामने आपसे जुडी सारी जानकारी आपके सामने आजयेगी।
  • जैसे ही आप खोजें के बटन पर क्लिक करेंगे मतदाता सूची आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

एप्लीकेशन स्टेटस ट्रैक करने की प्रक्रिया?

वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया फॉर्म खुलकर आएगा। जिसमें आपको अपनी एक रेफरेंस आईडी को भरनी होगी।
  • अब आपको ट्रैक स्टेटस के बटन पर क्लिक करना होगा। जैसे ही आप ट्रैक स्टेटस के बटन पर क्लिक करेंगे आपका एप्लीकेशन स्टेटस आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगा।

मतदाता सूची पीडीएफ डाउनलोड करने की प्रक्रिया

मतदाता सूची पीडीएफ
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा। जिसमें आपको अपने राज्य का चुनाव करना होगा।
  • तत्पश्चात अब आपको गो के बटन पर क्लिक करना होगा। जैसे ही आप गो के बटन पर क्लिक करते है तो मतदाता सूची पीडीएफ आपकी कंप्यूटर डिवाइस में डाउनलोड हो जाएगा।

बूथ तथा ऑफिसर डिटेल्स खोजने की प्रक्रिया?

  • सबसे पहले आपको राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको नो your के लिंक पर क्लिक करना होगा।

वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
वोटर आईडी कार्ड-वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन कैसे बनाएं पूरी जानकारी हिंदी में
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा। जिसमें आप अपने बूथ तथा ऑफिसर से संबंधित जानकारी को खोज सकते हैं।
  • यह डिटेल आप या तो ई0पी नंबर डालकर खोज सकते हैं या फिर अपना एड्रेस डालकर खोज सकते हैं।
  • इसके पश्चात आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप बूथ तथा ऑफिसर डिटेल खोज पाएंगे।

संपर्क करे?

  • एड्रेस- निर्वाचन सदन, अशोक रोड, नई दिल्ली, पिनकोड-110001
  • EPABX: 23052205 – 10, 23052212 – 18, 23052146, 23052148, 23052150
  • ईमेल आईडी – [email protected]इन
  • फैक्स – 23052219, 23052162/63/19/45
  • कण्ट्रोल रूम – 23052220, 23052221

हेल्प लाइन नंबर? 

हमने अपने इस लेख के माध्यम से आपको वोटर आईडी से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं। तो आप टोल फ्री नंबर पर संपर्क करके अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं। और आप इस टोल फ्री नंबर के माध्यम से भी संपर्क 1800111950 कर सकते है।

SSC CGL Recuritment Postpond 2021 परीक्षा तिथि योग्यता रिक्तपद रिजल्ट

0
SSC CGL Recuritment 2021 कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, जल्द करें अप्लाई
SSC CGL Recuritment 2021 कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, जल्द करें अप्लाई

दोस्तों एसएससी सीजीएल (SSC CGL) क्या है। और एसएससी सीजीएल का पूरा नाम क्या है। और एसएससी सीजीएल से आप क्या बन सकते है। एसएससी सीजीएल के लिए कौन कौन आवेदन कर सकता है। और एसएससी सीजीएल के लिए सही मापदंड क्या है। एसएससी सीजीएल (SSC CGL) परीक्षा का सिलेबस (syllabus) क्या है।

एसएससी सीजीएल के लिए आवेदन कैसे करे। एसएससी सीजीएल के लिए आवेदन करने का सटीक तरीका क्या है। एसएससी सीजीएल से जुडी इन सभी की जानकारी आपको मैं इस लेख में दूंगा। अगर आप अभी SSC CGL के बारे में अभी कुछ भी नहीं जानते तो आपको हमारा ये लेख आखिर तक ध्यान से पढ़ते रहियें।

SSC CGL क्या है? (What is SSC CGL)

मित्रो SSC CGL के बारे में जानने से पहले हम आपको SSC CGL Full Form बता देते हैं। एसएससी सीजीएल (SSC CGL) का फुल फॉर्म कर्मचारी चयन आयोग कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल (Staff Selection Commission Combined Graduate Level) होता है। आजकल जो भी छात्र स्नातक कर रहे या कर चुके है। उन्हें भी नहीं पता की उन्हें भविष्य में क्या करना है। क्या उन छात्रों को स्नातक  के बाद सरकारी नौकरी या नहीं मिलेगी। अगर मिल भी गई तो उन्हें किस विभाग में मिलेगी उनकी वेतन क्या होगा।

मित्रो मुझे जहा तक जानकारी है। उन सभी स्नातक छात्रों के पास सरकारी नौकरी के रूप में एसएससी सीजीएल या एसएससी से अच्छा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। एसएससी सीजीएल की परीक्षा कर्मचारी चयन आयोग प्रतिवर्ष करवाता है। जहा अगर आपने भी स्नातक (Graduation) को पूरा कर लिया और सरकारी नौकरी (Sarkari Government Jobs) की तैयारी कर रहे हैं। तो आपके लिए ये शानदार मौका हो सकता है। आप सभी लोग इस परीक्षा के लिए आवेदन को भर सकते हैं। और इसके अंतर्गत आप सभी लोगों को विभिन्न विभागों में नियुक्ति मिल सकती हैं।

एसएससी सीजीएल (SSC CGL) परीक्षा चरण?

कर्मचारी चयन आयोग के अन्तर्गत आप सभी लोगों को टायर-1, टायर-2, टायर-3 (Tier-1, Tier-2, Tier-3) के अनुसार सीजीएल की परीक्षा देनी होती है। और उम्मीदवार को इन सभी टायर (Tier) को पास करना अनिवार्य होता हैं। तो चलिये अब जानते है कि इन Tiers में क्या होता है। और आप इनको कैसे पास कर सकते है। चूँकि एसएससी सीजीएल की परीक्षा के तहत मिलने वाली नोकरियाँ आपके योग्यता के हिसाब से 2 भागो में बाटीं गयी है। पहला तो डेस्क जॉब और दूसरी फील्ड जॉब। इन विभिन्न पदों के लिए आपकी क्या योग्यता होनी चाहिए वो हम आपको नीचे बता रहे हैं।

एसएससी सीजीएल टायर-1 परीक्षा (SSC CGL Exam Tier-1)

एसएससी सीजीएल की परीक्षा कंप्यूटर बेस्ड पर आधारित होती है। वही इस परीक्षा में कुल 100 प्रश्न आते है। और इन प्रश्नो को करने के लिए आपको मात्रा 75  समय दिया जाता है। मित्रो इस परीक्षा को 4 भागो में विभाजित किया गया है। उन चार विभाजित विषयो के नाम इस प्रकार है।

  1. रीजनिंग
  2. क्वांटिटेटिव एप्टीटुड
  3. जनरल इंग्लिश
  4. जनरल अवेयरनेस

मित्रो इसमें हर एक प्रश्न 2 नंबर का होता हैं। इस प्रकार आपका प्रश्नो का कुल योग 200 अंक का होगा। अगर आपका कोई प्रश्न गलत हो जाता है। तो आपके 0.50 नंबर काट दिए जायेंगे।

एसएससी सीजीएल टायर-2 परीक्षा (SSC CGL Exam Tier-2)

इस परीक्षा में चार प्रश्न पत्र  दिये जाएंगे –

1- मात्रात्मक क्षमता (100 प्रश्न और 200 अंक का होगा)

2- अंग्रेजी भाषा और समझ (100 प्रश्न और 200 अंक का होगा)

 3- आंकड़े (100 प्रश्न और 200 अंक का होगा)

4 -जनरल स्टडीज (फाइनेंस एंड इकोनॉमिक्स)] (200 अंक का होगा)

एसएससी सीजीएल टायर-3 परीक्षा (SSC CGL Exam Tier-3)

इसमें इंटरव्यू लेने के बजाय उम्मीदवार को Tier – 3 को 100 अंको में शामिल किया गया है, जिसमें उम्मीदवारों को अंग्रेजी या हिंदी में निबंध / प्रीसीस / पत्र / आवेदन लिखने की आवश्यकता होती है। 

एसएससी सीजीएल रेक्रिटमेन्ट 2021 (SSC CGL Recruitment 2021): दरअसल, कर्मचारी चयन आयोग (SSC) ने कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल परीक्षा-2021 (SSC CGL 2021) के लिए नोटिफिकेशन को जारी कर दिया है। इस नोटिफिकेशन के मुताबिक एसएससी सीजीएल परीक्षा के लिए आवेदन प्रक्रिया 29 दिसंबर 2020 से शुरु हो गई है। और जो भी इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर अपना आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करने की आखिरी तारीख 31 जनवरी 2021 है।

संस्था का नाम- कर्मचारी चयन आयोग (SSC)

कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल परीक्षा-2021 (SSC CGL 2021) में रिक्तियों का पोस्ट वाइज विवरण? 

पदों का विवरण- असिस्टेंट ऑडिट ऑफिसर, असिस्टेंट अकाउंट ऑफिसर, असिस्टेंट सेक्शन ऑफिसर(सेंट्र्ल सेक्रेटेरिएट सर्विस, आईबी, विदेश मंत्रालय, AFHQ), असिस्टेंट, असिस्टेंट सेक्शन ऑफिस (अन्य मंत्रालय), इनकम टैक्स ऑफिसर, सेंट्रल एक्साइज इंस्पेक्टर, इंस्पेक्टर प्रेवेंसन ऑफिसर, असिस्टेंट इनफोर्समेंट ऑफिसर, सब इंस्पेक्टर (सीबीआई), इंस्पेक्टर (अन्य विभाग), इंस्पेक्टर (NCB), असिस्टेंट सुप्रिटेंडेंट, डिवीजन अकाउंटेंट, सब-इंस्पेक्टर (एनआईए), जूनियर स्टेटिकल ऑफिसर, सब इंस्पेक्टर, अप्पर डिवीज़न क्लर्क, टैक्स असिस्टेंट, ऑडिटर आदि।

पदों की संख्या- पदों की संख्या के संबंध में विभाग द्वारा जारी नोटिफिकेशन को अवश्य पढ़ें।

महत्वपूर्ण तिथियां-

आवेदन शुरु होने की तिथि- 29 दिसंबर 2020

आवेदन करने की आखिरी तिथि- 31 जनवरी 2021

उम्मीदवारो की शैक्षिक योग्यता और आयु?

कर्मचारी चयन आयोग कंबाइंड ग्रेजुएट लेवल (Staff Selection Commission Combined Graduate Level) की परीक्षा में बैठने के लिए उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त संस्थान/कॉलेज/विश्वविद्यालय से किसी भी विषय में स्नातक किया हो। और उम्मीदवार की आयु सीमा सभी पदों के लिए आयु सीमा अलग-अलग होती है। जिसमें उम्मीदवार की आयु न्यूमतम 18 साल और अधिकतम आयु 32 साल होनी चाहिए।

SSC CGL Recuritment 2021 कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, जल्द करें अप्लाई
SSC CGL Recuritment 2021 कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया नोटिफिकेशन, जल्द करें अप्लाई

उम्मीदवार कैसे करें आवेदन?

मित्रो एसएससी सीजीएल के लिए इस साल भी बहुत आवेदन किए जाने हैं। मित्रो अनुमान ये लगया जा रहा है कि एसएससी सीजीएल टायर-1 की परीक्षा मई से जून के महीने में और टायर-2 और टायर-3 की परीक्षा सितम्बर 2021 में ली जाएगी। और वही टायर-4 की परीक्षा दिसंबर के महीने में करने का अनुमान है। इस लिए अगर आप इसके लिए आवेदन करने की सोच रहे हैं। तो अभी से इसकी तैयारी में लग जाइए। इसमें ज़्यादातर प्रश्न समान्य ज्ञान या अभी घाट रही घटनाओं के आधार पे पूछा जा सकता है। इसलिए आप हालिया समय के General Knowledge की पूरी जानकारी रखें।

एसएससी सीजीएल 2020 – 2021 के लिए आवेदन ऑनलाइन के माध्यम से ही भरा जा सकता है। चूँकि उम्मीदवार को चाहियें कि वह आवेदन पत्र भरने से पहले उम्मीदवार से मांगी गई सभी जानकारी को सही से जांच लें तत्पश्चात ही उसके बाद ही आवेदन करें। यदि उम्मीदवार एसएससी सीजीएल 2020 – 2021 के लिए तय किये गए पात्रता मापदंड को पूरा नहीं करते तो उनके द्वारा किया गया। आवेदन पत्र अस्वीकार हो जायेगा । SSC CGL 2020 – 2021 Online Application Form भरने के लिए उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भुगतान करना आवश्यक है। उसके बाद ही उम्मीदवार के आवेदन प्रकिया पूर्ण मानी जाएगी।

मित्रो आपको आपको 100 रु आवेदन शुल्क भी देना होगा, अगर आप अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, महिला, शारीरिक रूप से विकलांग (पीएच), और पूर्व सैनिक (एएनसी) हैं तो आपको कोई शुल्क नहीं लगेगा। आवेदन शुल्क SBI Net Banking या अन्य किसी Debit/Credit Card या चालान प्रिंट आउट के माध्यम से ही किया जा सकता है। इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार विभाग की आधिकारिक वेबसाइट https://ssc.nic.in/Registration/Home पर विजिट कर आवेदन कर सकते हैं।

एसएससी सीजीएल का एडमिट कार्ड 2020 – 2021

एसएससी सीजीएल 2020 – 2021 के लिए आवेदन की प्रक्रिया समाप्त होने के कुछ समय पश्चात ही उम्मीदवारो के लिए एडमिट कार्ड या हॉल टिकट को जारी कर दिया जाता है। एडमिट कार्ड को एसएससी सीजीएल की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया जाएगा या उम्मीदवार चाहे तो (www.sarkariresult.com) पर भी अपने एडमिट कार्ड को देख सकते है। वही अभ्यर्थी को परीक्षा में शामिल होने के लिए आधिकारिक वेबसाइट के अलावा इस पेज में दिए गए लिंक के माध्यम से भी एसएससी सीजीएल एडमिट कार्ड प्राप्त कर सकेंगे।

एडमिट कार्ड केवल ऑनलाइन माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है। उम्मीदवारों को ध्यान रखना चाहियें कि पोस्ट के द्वारा या ई – मेल या फिर किसी अन्य माध्यम से उम्मीदवारों को एडमिट कार्ड नहीं भेजा जाता है। परीक्षा के समय उम्मीदवारों को एडमिट कार्ड साथ ले जाना आवश्यक है। एडमिट कार्ड को साथ नहीं ले जाने पर आपको परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। एडमिट कार्ड में उम्मीदवार का नाम, रोल नंबर, परीक्षा की तारीख, परीक्षा केंद्र का नाम, आदि कई जानकारियां दी गयी होती हैं।

एसएससी सीजीएल 2020 – 2021

उम्मीदवार को चाहियें कि वह अपनी परीक्षा से सम्बन्धित सभी चीज़ो को जाँच परख ले तथा साथ ही परीक्षा होने से एक दिन पहले ही आप परीक्षा वाली जगह पर पहुंच कर अपने स्कूल या फिर कॉलेज का भ्रमण कर यह सुनिश्चित कर ले कि आपकी एडमिट कार्ड में दिया गया स्कूल या कॉलेज का नाम एक ही है। अन्यथा आपको परीक्षा के दिन कठिनाई हो सकती है।

अगर आप परीक्षा वाली जगह के आस पास के है तो आप भी जाकर अपने स्कूल की जाँच परख कर ले। ऐसा करने से आप परेशानी से बच सकते है। और परीक्षा वाले दिन आपके समय की बचत होगी। परीक्षा वाले दिन परीक्षा देने से पहले यह जाँच की ले की आपके पास आपकी सरकार द्वारा जारी किया गया कोई भी आई0डी अवश्य हो जैसे-आधार कार्ड या पैनकार्ड और साथ में एडमिट कार्ड और 2 फोटो पासपोर्ट साइज के हो। ऐसा करने से आपको किसी तरह की कोई भी समस्या उत्पन नहीं होगी।

एसएससी सीजीएल आंसर की 2020 – 2021? 

एसएससी सीजीएल 2020 – 2021 आंसर शीट को रिजल्ट के जारी के होने पहले और परीक्षा होने के दो से तीन दिन बाद ही जारी कर दी जाती है या कर दिया जायेगी। आधिकारिक आंसर की जारी होने के बाद उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर या फिर (www.sarkariresult.com) पर जाकर अपनी आंसर की प्राप्त कर सकेंगे ।

एसएससी सीजीएल रिजल्ट 2020 – 2021?

जो भी उम्मीदवार एसएससी सीजीएल 2021 की परीक्षा देंगे वह कर्मचारी चयन आयोग के आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर रिजल्ट को प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा उम्मीदवार हमारे पेज पर दी गई डायरेक्ट लिंक से अपना रिजल्ट प्राप्त कर सकेंगेएसएससी सीजीएल 2021 खत्म होने के कुछ समय बाद ही उम्मीदवारों का रिजल्ट जारी कर दिया जायेगा जिसके बाद उम्मीदवार अपना रिजल्ट देख सकेंगे । रिजल्ट प्राप्त करने के लिए निम्न चीजों को किया जायेगा शामिल।

यदि उपरोक्त हमारे द्वारा दी गयी जानकारी से हमारे प्रिय पाठक संतुष्ट है, तो इस लेख को आप अपने Social Media एकाउंट्स शेयर जरूर करे तथा अगर हमसे कुछ छूट गया हो या फिर कुछ गलत लिखा गया हो तो उसके लिए हमें क्षमा कीजियेगा साथ ही आप कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे।

यूपीटीईटी (UPTET) क्या होता है यूपीटीईटी के लिए कौन आवेदन कर सकता है।

0
यूपीटीईटी (UPTET) क्या होता है। यूपीटीईटी के लिए कौन आवेदन कर सकता है।
यूपीटीईटी (UPTET) क्या होता है। यूपीटीईटी के लिए कौन आवेदन कर सकता है।

यूपीटीईटी (UPTET) यानि उत्तर प्रदेश अध्यापक पात्रता परीक्षा क्या होता है क्या आप लोग इसके बारे में जानते है। और अगर आप नहीं जानते है। तो आपके मन में एक प्रश्न जरूर उठता होगा कि आखिर ये यूपीटीईटी (UPTET) क्या होता है। यूपीटीईटी के लिए कौन आवेदन कर सकता है। तो मैं आज के इस लेख में मैं आपको uptet से वह सभी जानकारी दूंगा जैसे यूपीटीईटी क्या होता है। इसके लिए कौन कौन पात्र होता है। uptet के लिए कौन कौन आवेदन कर सकता है। आवेदन करने के लिए क्या करना चाहियें और आवेदन करने का सही तरीका क्या है, इन सभी प्रश्नो के उत्तर मैं आपको दूंगा।

मित्रो आरटीई 2009 को लागू किया गया। यूपीटीईटी (UPTET) को राइट टू एजुकेशन 2009 और शिक्षा का अधिकार अधिनियम 2009  के अन्तर्गत लागू किया गया। तब से ही यह प्रावधान है। जो कोई भी व्यक्ति जो शिक्षक बनने का इच्छुक है। तो उसे टीईटी यानी अध्यापक पात्रता परीक्षा को पास करना अनिवार्य होगा तत्पश्चात ही वह शिक्षक के पद पर कार्य कर सकता है। वही इसके लिए केंद्र द्वारा सीटीईटी (CTET) सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट एक साल में दो बार कराया जाता है। वही इसके अलावा लगभग सभी राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक राज्य सरकार अपनी अपनी स्टेट से सम्बंधित परीक्षा लेते है।

जैसे उत्तर प्रदेश में यूपीटीईटी की परीक्षा ली जाती है। तो वही बिहार में बीटीसी की परीक्षा ली जाती है। और पंजाब में पीटीसी की परीक्षा ली जाती है और हरयाणा में हरयाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा लेता है तथा अन्य राज्यों के पास बीटीटी परीक्षा लेने का प्रावधान किया गया था। इस परीक्षा को देने के बाद लोगे और टीचर शिक्षक भर्ती में आवेदन करने के योग्य हो जाते हैं। यूपी टीईटी पास करने के बाद आप उत्तर प्रदेश में ही केवल शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन दे सकते हैं। जबकि सीटीईटी (CTET) सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट की परीक्षा पास करने करने के बाद आप पुरे भारत में कहीं भी भर्ती हो रही हो।

आप किसी भी शिक्षक भर्ती प्रक्रिया में आप अपना आवेदन देकर आप उसमें ज्वाइन कर सकते हैं। चूँकि UPTET (उत्तर प्रदेश अध्यापक पात्रता परीक्षा) उत्तर प्रदेश शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित की जाने वाली एक राज्य स्तरीय पात्रता परीक्षा है। जिसके माध्यम से स्कूलों में प्राइमरी (कक्षा 1 से 5 तक) एवं अपर-प्राइमरी (कक्षा 6 से 8 तक) के लिए टीचर्स की भर्ती के लिए उम्मीदवार की जांच की जाती है। कोई भी बीएड डिग्री कर चुका उम्मीदवार यदि टीचर की सरकारी नौकरी पाने की इच्छा रखता है उसे UPTET की परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी. UPTET परीक्षा प्रत्येक वर्ष नवंबर या दिसंबर में आयोजित की जाती है।

यूपीटीईटी (UPTET) क्या होता है। यूपीटीईटी के लिए कौन आवेदन कर सकता है।
यूपीटीईटी (UPTET) क्या होता है। यूपीटीईटी के लिए कौन आवेदन कर सकता है।

UPTET आवश्यक योग्यता मानदंड?

प्राइमरी (कक्षा 1 से 5 तक) शिक्षक योग्यता

  • एक उम्मीदवार को चाहियें कि वह किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक तथा दो वर्षीय डीएलएड (बीटीसी) उत्तीर्ण किया हुआ हो या फिर वह अंतिम वर्ष का छात्र/छात्रा हो।
  • उम्मीदवार चाहे तो वह किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक तथा डिस्टेंस लर्निंग से अप्रशिक्षित व स्नातक शिक्षामित्रों का दो वर्षीय डीएलएड (बीटीसी) उत्तीर्ण किया हुआ हो या फिर वह अंतिम वर्ष का छात्र/छात्रा हो।
  • उम्मीदवार चाहे तो वह किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन तथा शिक्षा शास्त्र में दो वर्षीय डिप्लोमा (डी.एड) उत्तीर्ण किया हुआ हो या फिर वह अंतिम वर्ष का छात्र/छात्रा हो।
  • किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से उम्मीदवार के पास न्यूनतम 50% अंकों के साथ स्नातक / परास्नातक और बी.एड उत्तीर्ण किया हो या अंतिम वर्ष में हो।
  • किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से न्यूनतम 45% अंकों के साथ ग्रेजुएशन / पोस्ट ग्रेजुएशन तथा बी.एड।
  • किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन तथा उत्तर प्रदेश में संचालित दो वर्षीय बीटीसी उर्दू विशेष प्रशिक्षण उत्तीर्ण या अंतिम वर्ष में हो।
  • उम्मीदवार के पास न्यूनतम 50% अंकों के साथ इंटरमीडिएट अथवा समकक्ष तथा चार वर्षीय बी.एल.एड उत्तीर्ण किया हो या वह फिर अंतिम वर्ष में हो।

अपर-प्राइमरी (कक्षा 6 से 8 तक) शिक्षक पात्रता के लिए अर्हता

  • उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन तथा दो वर्षीय डीएलएड (बीटीसी) उत्तीर्ण किया हो या वह फिर अंतिम वर्ष में हो।
  • उम्मीदवार के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से न्यूनतम 50% अंकों के साथ ग्रेजुएशन / पोस्ट ग्रेजुएशन और बी.एड उत्तीर्ण किया हो या वह फिर अंतिम वर्ष में हो।
  • किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से उम्मीदवार न्यूनतम 45% अंकों के साथ ग्रेजुएशन / पोस्ट ग्रेजुएशन तथा बी.एड किया हुआ होना आवश्यक है।
  • न्यूनतम 50% अंकों के साथ इंटरमीडिएट अथवा समकक्ष तथा चार वर्षीय बी.ए.एड / बी.ए.बीएड उत्तीर्ण या वह फिर अंतिम वर्ष में हो। अथवा
  • न्यूनतम 50% अंकों के साथ इंटरमीडिएट अथवा समकक्ष तथा चार वर्षीय बी.एस.सी.एड /बी.एस.सी.एड उत्तीर्ण या अंतिम वर्ष में हो।
  • उम्मीदवार के पास न्यूनतम 50% अंकों के साथ इंटरमीडिएट अथवा समकक्ष तथा चार वर्षीय बी.एल.एड उत्तीर्ण किया होना आवश्यक है तथा अंतिम वर्ष में हो।

यूपीटीईटी (UPTET) के लिए उम्मीदवार की आयु?

उत्तर प्रदेश में सरकारी स्कूलों में टीचर की जॉब पाने के लिए जनरल (general) कैटागोरी के उम्मीदवार के लिए उनकी आयु 18 वर्ष से 35 वर्ष तक होना अनिवार्य है। वही पिछड़ा वर्ग कैटागोरी के उम्मीदवार के लिए उनकी आयु 18 वर्ष से 38 वर्ष तक होना अनिवार्य है। अनुसूचित और अनुसुचितजनजाति कैटागोरी के उम्मीदवार के लिए उनकी आयु 18 वर्ष से 40 वर्ष तक की आयु होना अनिवार्य है तथा जो शारीरिक रूप से अक्षम उम्मीदवार है तो उनके लिए आयु में विशेष छूट है। उनकी आयु 18 वर्ष से 45 वर्ष तक की आयु होना अनिवार्य है।

यूपीटीईटी (UPTET) आवेदन फॉर्म 2020 – 2021

यूपीटीईटी 2020 की परीक्षा के लिए आवेदन पत्र अभी जारी नहीं किया गया है। यूपीटीईटी के लिए आवेदन पत्र यूपीटीईटी के आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर ही जारी किया जाएगा। उमीदवार को चाहियें कि वह आधिकारिक वेबसाइट पर दिए गए लिंक के माध्यम से भी यूपीटीईटी के लिए आवेदन करे। यूपीटीईटी 2020 – 2021 के लिए आवेदन ऑनलाइन के माध्यम से ही भरा जा सकता है।

चूँकि उम्मीदवार को चाहियें कि वह आवेदन पत्र भरने से पहले उम्मीदवार से मांगी गई सभी जानकारी को सही से जांच लें तत्पश्चात ही उसके बाद ही आवेदन करें। यदि उम्मीदवार यूपटीईटी के लिए तय किये गए पात्रता मापदंड को पूरा नहीं करते तो उनके द्वारा किया गया आवेदन पत्र अस्वीकार हो जायेगा । UPTET 2020 – 2021 Online Application Form भरने के लिए उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भुगतान करना आवश्यक है। उसके बाद ही उम्मीदवार के आवेदन प्रकिया पूर्ण मानी जाएगी।

यूपीटीईटी 2020 – 2021 आवेदन शुल्क?

कैटागोरी पेपर-1 या पेपर-2 के लिएदोनों पेपर के लिए
जनरल/ओबीसी6001200
एससी/एसटी400800
पीडबल्यूडी100200

जो भी इच्छुक उम्मीदवार आवेदन पत्र भरेंगे वह आवेदन शुल्क का भुगतान निम्न प्रकार से कर सकता है। जैसे- नेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड आदि के माध्यम से वह आवेदन शुल्क का भुगतान कर सकता है। आवेदन शुल्क का भुगतान करने के बाद ही आपका आवेदन पत्र पूरा होगा।

यूपी टीईटी परीक्षा पैटर्न 2020 – 2021

यूपीटेट परीक्षा 2019 के दो पेपर होंगे, पहला एग्जाम उन उम्मीदवारों के लिए जो उम्मीदवार प्राथमिक शिक्षक के लिए आवेदन करेंगे, जो कि कक्षा 1 से 5वीं के लिए है। वहीं दूसरा एग्जाम उन उम्मीदवारों के लिए है जो उच्च प्राथमिक शिक्षक के लिए आवेदन करेंगे जो कक्षा 6वीं से 8वीं के लिए है । एग्जाम 1 और एग्जाम 2 में सभी प्रश्न बहु विकल्पीय होंगे और प्रत्येक प्रश्न 1 अंक का होगा । परीक्षा में कोई नेगिटिव मार्किंग नहीं होगी, UP TET Exam Pattern 2019 की अधिक जानकारी के लिए नीचे दी हुई टेबल से प्राप्त कर सकते हैं ।

उत्तर प्रदेश टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट प्रथम पेपर पैटर्न परीक्षा 2021

विषय प्रश्नो की संख्या अंक समय 
बाल विकास एवं शिक्षण विधि30302 घंटे 30 मिनट
भाषा प्रथम (हिन्दी)3030
भाषा द्वितीय (अंग्रेजी अथवा उर्दू अथवा संस्कृत में से कोई एक)3030
गणित3030
पर्यावरणीय अध्ययन3030
कुल150150

उत्तर प्रदेश टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट सेकंड पेपर पैटर्न परीक्षा 2021

विषय प्रश्नो की संख्या अंक समय 
बाल विकास एवं शिक्षण विधि30302 घंटे 30 मिनट
भाषा प्रथम (हिन्दी)3030
भाषा द्वितीय (अंग्रेजी अथवा उर्दू अथवा संस्कृत में से कोई एक)3030
(क) गणित एवं विज्ञान शिक्षक के लिए गणित/विज्ञान
(ख) सामाजिक अध्ययन या सामाजिक विज्ञान शिक्षक के लिए सामाजिक अध्ययन
(ग) अन्य किसी शिक्षक के लिए (क) अथवा (ख) कोई भी
6060
कुल 150150

कहां-कहां लगा सकते हैं UPTET का सर्टिफिकेट

उत्तर प्रदेश में सरकारी स्कूलों में टीचर की जॉब पाने के लिए UPTET परीक्षा पास होने का प्रमाण पत्र लगाना आवश्यक है। UPTET प्रमाण पत्र का उपयोग उत्तर प्रदेश सरकार के अधीन स्कूलों में टीचर के पदों पर भर्ती के लिए आवश्यक जांच एवं योग्यता निर्धारित करने के लिए किया जाता है। वही UPTET प्रमाण पत्र की वैधता परीक्षा उत्तीण होने से अधिकतम 5 वर्ष तक ही है। यदि UPTET परीक्षा पास किसी उम्मीदवार को 5 वर्ष के भीतर कहीं टीचर की जॉब नहीं प्राप्त होती है। तो उम्मीदवार को UPTET की परीक्षा पुन: देनी होगी. हालांकि, ऐसे उम्मीदवार जो कि UPTET की परीक्षा में अपने स्कोर को अच्छा करना चाहते हैं तो वे लोग UPTET की परीक्षा में दो बार बैठ सकते हैं।

यूपीटीईटी एडमिट कार्ड 2020 – 2021

यूपीटीईटी के लिए आवेदन की प्रक्रिया समाप्त होने के कुछ समय पश्चात ही उम्मीदवारो के लिए एडमिट कार्ड या हॉल टिकट को जारी कर दिया जाता है। एडमिट कार्ड को यूपीटीईटी की आधिकारिक वेबसाइट पर जारी किया जाएगा या उम्मीदवार चाहे तो (www.sarkariresult.com) पर भी अपने एडमिट कार्ड को देख सकते है। वही अभ्यर्थी को परीक्षा में शामिल होने के लिए आधिकारिक वेबसाइट के अलावा इस पेज में दिए गए लिंक के माध्यम से भी यूपी टीईटी एडमिट कार्ड प्राप्त कर सकेंगे।

एडमिट कार्ड केवल ऑनलाइन माध्यम से ही प्राप्त किया जा सकता है। उम्मीदवारों को ध्यान रखना चाहियें कि पोस्ट के द्वारा या ई – मेल या फिर किसी अन्य माध्यम से उम्मीदवारों को एडमिट कार्ड नहीं भेजा जाता है। परीक्षा के समय उम्मीदवारों को एडमिट कार्ड साथ ले जाना आवश्यक है। एडमिट कार्ड को साथ नहीं ले जाने पर आपको परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। एडमिट कार्ड में उम्मीदवार का नाम, रोल नंबर, परीक्षा की तारीख, परीक्षा केंद्र का नाम, आदि कई जानकारियां दी गयी होती हैं।

यूपीटीईटी परीक्षा 2020 – 2021

उम्मीदवार को चाहियें कि वह अपनी परीक्षा से सम्बन्धित सभी चीज़ो को जाँच परख ले तथा साथ ही परीक्षा होने से एक दिन पहले ही आप परीक्षा वाली जगह पर पहुंच कर अपने स्कूल या फिर कॉलेज का भ्रमण कर यह सुनिश्चित कर ले कि आपकी एडमिट कार्ड में दिया गया स्कूल या कॉलेज का नाम एक ही है। अन्यथा आपको परीक्षा के दिन कठिनाई हो सकती है।

अगर आप परीक्षा वाली जगह के आस पास के है तो आप भी जाकर अपने स्कूल की जाँच परख कर ले। ऐसा करने से आप परेशानी से बच सकते है। और परीक्षा वाले दिन आपके समय की बचत होगी। परीक्षा वाले दिन परीक्षा देने से पहले यह जाँच की ले की आपके पास आपकी सरकार द्वारा जारी किया गया कोई भी आई0डी अवश्य हो जैसे-आधार कार्ड या पैनकार्ड और साथ में एडमिट कार्ड और 2 फोटो पासपोर्ट साइज के हो। ऐसा करने से आपको किसी तरह की कोई भी समस्या उत्पन नहीं होगी।

यूपीटीईटी आंसर की 2020 – 2021

यूपीटीईटी आंसर की 2020 – 2021 रिजल्ट के जारी के होने और परीक्षा होने के दो से तीन दिन बाद ही जारी कर दी जाती है या कर दिया जायेगी। आधिकारिक आंसर की जारी होने के बाद उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर या फिर (www.sarkariresult.com) पर जाकर अपनी आंसर की प्राप्त कर सकेंगे । UP TET Answer Key  जारी होने के बाद उम्मीदवार को अगर लगता है की उसके प्रश्न का उत्तर ठीक है और और ऊपर से उसे गलत कर उसका नंबर काट दिया है। और आप चाहते है कि आप उस प्रश्न पर ऑब्जेक्शन करे, तो आप ये भी कर सकते हैं ।

यूपी टीईटी रिजल्ट 2020 – 2021

जो भी उम्मीदवार यूपी टीईटी परीक्षा की देंगे वह उत्तर प्रदेश टीईटी रिजल्ट का आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा उम्मीदवार हमारे पेज पर दी गई डायरेक्ट लिंक से अपना रिजल्ट प्राप्त कर सकेंगे । UP TET Exam 2020 खत्म होने के कुछ समय बाद ही उम्मीदवारों का रिजल्ट जारी कर दिया जायेगा जिसके बाद उम्मीदवार अपना रिजल्ट देख सकेंगे । रिजल्ट प्राप्त करने के लिए निम्न चीजों को किया जायेगा शामिल।

यदि उपरोक्त हमारे द्वारा दी गयी जानकारी से हमारे प्रिय पाठक संतुष्ट है, तो इस लेख को आप अपने Social Media एकाउंट्स शेयर जरूर करे तथा अगर हमसे कुछ छूट गया हो या फिर कुछ गलत लिखा गया हो तो उसके लिए हमें क्षमा कीजियेगा साथ ही आप कमेंट बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दे।

आधिकारिक वेबसाइट – updeled.gov.in